Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

बुधवार, 8 जुलाई 2020

कानपुर पुलिस हत्याकांड : चौबेपुर के पूर्व थानाध्यक्ष विनय तिवारी गिरफ्तार

घर का भेदी लंका ढाये की कहावत को चरितार्थ कर दिए थानाध्यक्ष चौबेपुर विनय कुमार तिवारी...

 विभीषण की भूमिका अदा करने वाले चौबेपुर थाना के तत्कालीन थानाध्यक्ष विनय कुमार तिवारी...
कानपुर। UP पुलिस कभी स्वप्न में भी नहीं सोची रही होगी उसके यहाँ का भेदी ही UP पुलिस की नाक में दम करा देगा अपने ही परिवार की बात अपराधियों को बताकर एक सीओ, एक थानाध्यक्ष, एक चौकी प्रभारी, एक सब-इंस्पेक्टर सहित 8 सिपाहियों की हत्या करा देगा ! उत्तर प्रदेश के कानपुर में 2 जुलाई 2020 को हुए एक डीएसपी समेत आठ पुलिस कर्मियों की हत्या के मामले में 8 जुलाई को दो पुलिस कर्मियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। गिरफ्तार होने वाले पुलिस कर्मियों में चौबेपुर थाना के तत्कालीन थानाध्यक्ष विनय कुमार तिवारी और तत्कालीन बीट प्रभारी के के शर्मा शामिल हैं। इन दोनों लोगों को चार दिन से एसटीएफ हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही थी।

जब पुलिस अपने ही घर को न एकजुटता का पाठ नहीं पढ़ा सकी तभी तो अंदर ही अंदर थानाध्यक्ष विनय कुमार तिवारी द्वारा सीओ बिल्होर देवेन्द्र मिश्र से बदला लेने के लिए दबिश देने की बात अपराधी विकास दुबे तक पहुँचा दिया और दबिश देने साथ गए तो सबसे पीछे रहे और मौका पाते ही भाग खड़े हुए। यानि अपने ही परिवार के लोगों को मरवाने की योजना बनवाकर पीछे से खिसक लिया। बता दें कि चौबेपुर थाना क्षेत्र के विकरू गांव निवासी हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के यहां दबिश देने पहुंची पुलिस टीम पर 2 जुलाई की रात विकास दुबे और उसके सहयोगियों ने घेरकर गोली चलाई थी। इस घटना में बिल्हौर के क्षेत्राधिकारी देवेन्द्र मिश्र समेत 8 पुलिस कर्मियों की मौके पर मौत हो गयी थी। 

इस मामले का मास्टर माइंड विकास दुबे 8 जुलाई तक गिरफ्तार नहीं हो सका है। शातिर अपराधी विकास दुबे के तीन साथियों को पुलिस मुठभेड़ में पुलिस ने मार गिराया है जबकि 4 लोगों को अभी तक पुलिस ने गिरफ्तार कर उनसे पूँछ ताँछ कर रही है। दुर्दांत अपराधी विकास दुबे को पकड़ने के लिए पुलिस दिन रात एक किये हुए हैं इस बीच बिकरू मामले की छानबीन कर रही एसटीएफ ने चौबेपुर के तत्कालीन थानाध्यक्ष विनय कुमार तिवारी और बीट प्रभारी के के शर्मा को गिरफ्तार कर लिया है। इन दोनों के विरुद्ध निलंबन की कार्रवाई पहले की कर दी गयी थी। दोनो पुलिस कर्मियों पर विकास दुबे का सहयोग करने का आरोप है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें