Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

रविवार, 5 जुलाई 2020

लखनऊ में डीआईजी जेल संजीव त्रिपाठी की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई

कोरोना संक्रमण की रफ्तार यही रही तो वो दिन दूर नहीं जब एक दिन में कोरोना संक्रमितों की संख्या एक लाख पार न हो जाए... 

डीआईजी जेल संजीव त्रिपाठी कोरोना पॉजिटिव,संपर्क में आए जेलकर्मी की होगी जांच...

कोरोना संक्रमण की भयावह स्थिति से जूझ रहा है,देश...
उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमित लोगों की तादाद बढ़ती जा रही है इसी कड़ी में रविवार को लखनऊ में जेल मुख्यालय और परिक्षेत्र डीआईजी संजीव त्रिपाठी कोरोना पॉजिटिव निकले हैं स्वास्थ विभाग की टीम ने जेल मुख्यालय में आकर नमूने लिए थे स्वास्थ्य विभाग की टीम ने डीआईजी के संपर्क में आए जेलकर्मी, फॉलोअर और कार्यालय के बाबू की सूची तैयार कर नमूने लेगा। इन्हें घर पर क्‍वारंटाइन रहने की सलाह दी गई। डीआईजी जेल संजीव त्रिपाठी कोरोना पॉजिटिव आने के बाद जेल मुख्यालय की बिल्डिंग को 48 घंटे के लिए बंद कर दिया गया है वहीं, जेल मुख्यालय की बिल्डिंग को सैनिटाइज किया जा रहा है। लखनऊ में जेल मुख्यालय और परिक्षेत्र डीआईजी संजीव त्रिपाठी कोरोना पॉजिटिव निकले। दो दिन पहले डीजी आनंद कुमार समेत जेल मुख्यालय के 60 अधिकारी और कर्मचारियों के नमूने लिए गए थे। स्वास्थ विभाग की टीम ने जेल मुख्यालय में आकर नमूने लिए थे। स्वास्थ्य विभाग डीआईजी के संपर्क में आए जेलकर्मी, फॉलोअर और कार्यालय के बाबू की सूची तैयार कर नमूने लेगा। इन्हें घर पर क्वारन्टीन रहने की सलाह दी गई।

 कोरोना संक्रमण के टेस्टिंग का प्रतीकात्मक तस्वीर...
देश के महाराष्ट्र और दिल्ली में तो स्थिति पहले से ही तनावपूर्ण थी आर्थिक राजधानी मुंबई के हालात सबसे अधिक चिंताजनक है। अब उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में भी कोरोना का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। शनिवार को एक साथ रिकॉर्ड 78 नए संक्रमित मिलने के बाद रविवार को सिविल अस्पताल के नौ कर्मचारी व डीआईजी जेल संजीव त्रिपाठी भी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। जेल के डीआईजी संजीव त्रिपाठी के कोरोना संक्रमित होने के बाद से जेल के स्टाफ और जेल में बंद बंदियों को भी चिंता सताने लगी है कि कहीं उन लोगों को भी कोरोना का संक्रमण न हो जाए। उधर, डीआईजी के कोरोना पॉजिटिव आने के बाद से मुख्यालय के अफसर और कर्मियों में दहशत है हालांकि मुख्यालय के अन्य 59 अधिकारी और कर्मियों की रिपोर्ट निगेटिव आयी है। डीजी आनंद कुमार ने शहर में कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते एहतियातन स्वास्थ विभाग से जांच कराने का आग्रह किया था। 


 राजधानी लखनऊ स्थित मुख्यालय कारगार प्रशासन एवं सुधार सेवाएं...
दरअसल मरीजों की संख्या का रिकॉर्ड बना रहा यह वायरस कोरोना योद्धाओं को शिकार बनाने लगा है। कोरोना के कारण तालकटोरा के होम्योपैथिक डॉक्टर जावेद (60) की मौत हो गई। वहीं 102 एंबुलेंस कॉल सेंटर के 32 कर्मचारी भी संक्रमित मिले हैं। कॉल सेंटर की पूरी बिल्डिंग को 48 घंटे के लिए सील कर दिया गया है। शुक्रवार को कोरोना की चपेट में आए कैबिनेट मंत्री मोती सिंह व उनकी पत्नी के परिवार के पांच और लोग भी पॉजिटिव मिले हैं। योगी सरकार के एक और मंत्री धर्म सिंह सैनी भी इसकी चपेट में आ गए हैं। राजधानी में अब कुल मरीजों की संख्या 1307 हो गई है। इनमें 1089 लखनऊ के निवासी हैं। इसके अलावा एसजीपीजीआई लखनऊ में 2,148 नमूने जांचे गये। उन्होंने बताया कि इसके अलावा आईएमएस बीएचयू वाराणसी, एलएलआरएम मेडिकल कॉलेज मेरठ, बीआरडी मेडिकल कॉलेज और एमएलएनएमसी प्रयागराज, आरएमएल लखनऊ, एनआईबी नोएडा और जीएसवीएमसी कानपुर में एक-एक हजार से ज्यादा नमूनों की जांच की गई है। इसके अलावा इस अवधि में 2,703 लोगों की एंटीजेन जांच भी की गई है जिनमें से 1,468 जांच ट्रूनेट मशीनों से किये गये हैं।


लखनऊ के डीआईजी संजीव त्रिपाठी भी हुए कोरोना संक्रमित...
राजधानी लखनऊ में संक्रमित मरीज जो मिले हैं वो इस प्रकार है 32 मरीज 102 कॉल सेंटर के, 5 मोती सिंह के परिवार के, चंद्रनगर के 5, कैंट रोड के 4, इंदिरानगर व एलडीए कॉलोनी के 3-3, कल्याणपुर, गुडंबा, गायत्रीनगर, मोहान रोड के 2-2 मरीज संक्रमित हैं। हरि नगर, विकास नगर, अलीगंज, मलिहाबाद, देवी खेड़ा, बनी कला, सरोजनी नगर, फैजाबाद रोड, नरही, अजय नगर, राजाजीपुरम, कुर्सी रोड के 1-1 पॉजिटिव मिले हैं। देश में जिस तरह कोरोना का संक्रमण में दिन प्रतिदिन बढ़ोत्तरी हो रही है, उससे तो यही लगता है कि आने वाले दिनों में कहीं ये आकड़ा प्रतिदिन का एक लाख न हो जाए। क्योंकि अब एक दिन में 25 हजार लोग एक दिन में कोरोना संक्रमित हो रहे हैं। उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस से संक्रमण के 1,155 नये मामले सामने आये हैं। अब तक कुल 18,761 लोग पूरी तरह ठीक हो चुके हैं। इस प्रकार प्रदेश में उपचाराधीन मामलों की कुल संख्या 8,161 है। अवस्थी ने बताया कि शनिवार को एक दिन में कुल 29,117 नमूनों की जांच की गई। इनमें सबसे ज्यादा 3,579 नमूनों की जांच राजधानी लखनऊ स्थित किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय (केजीएमयू) में किये गये।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें