Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

रविवार, 28 जून 2020

प्रतापगढ़ के अपर जिलाधिकारी को रैपिड टेस्ट में कोरोना रिपोर्ट आई पॉजिटिव,जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य महकमें में मचा हड़कंप

अपर जिलाधिकारी प्रतापगढ़ शत्रोहन वैश्य की कोरोना वायरस संक्रमण की रिपोर्ट पॉजीटिव आते ही प्रतिदिन DM-11की मीटिंग में शामिल होने वाले अफसरों के उड़े,होश...


एडीएम,प्रतापगढ़ शत्रोहन वैश्य...
प्रतापगढ़ जनपद में कोरोना का संक्रमण अब जिला प्रशासन में अपनी जड़े जमाना शुरू कर दिया है। बुखार की शिकायत पर एडीएम, प्रतापगढ़ शत्रोहन वैश्य ने एहतियातन अपना कोरोना टेस्ट कराया था फाइनल रिजल्ट के लिए अपर जिलाधिकारी का सैंपल प्रयागराज भेजा गया जिला अस्पताल के फिजिशियन डॉ मनोज खत्री टीम सहित अपर जिलाधिकारी आवास पर डटे हैं। एडीएम प्रतापगढ़ को कहाँ भर्ती किया जाए, उसके लिये स्वास्थ्य महकमें और जिला प्रशासन में रणनीति बन रही है। कोरोना संक्रमित मरीजों को भर्ती करने करने की ब्यवस्था जिला प्रशासन और स्वास्थ्य महकमा ने लालगंज में कोविड-19 अस्पताल की ब्यवस्था किया है और दूसरी ब्यवस्था गायघाट रोड़ पूरे  केशवराय स्थिति ट्रामा सेंटर में कोरोना संक्रमित मरीजों को भर्ती किया जाता है 
कन्टेनमेंट जोन एरिया निर्धारित करने के सम्बन्ध में CMOप्रतापगढ़ द्वारा जारी आदेश... 
देखना है कि अपर जिलाधिकारी प्रतापगढ़ को जिला अस्पताल में भर्ती किया जाता है अथवा कोविड-19 अस्पताल में भर्ती किया जाता है। जिला प्रशासन में अपर जिलाधिकारी का प्रमुख स्थान होता है। कोरोना संक्रमण काल में जिलाधिकारी प्रतापगढ़ की टीम-11 के प्रमुख सदस्यों में से एक सदस्य अपर जिलाधिकारी प्रतापगढ़ हैं जिलाधिकारी अपने बाद अपर जिलाधिकारी को ही अपने कार्यों के निष्पादन का दायित्व अपर जिलाधिकारी को ही देते हैं। वैसे प्रतापगढ़ के अपर जिलाधिकारी शत्रोहन वैश्य बहुत ही मिलनसार और ब्यवहारिक हैं। पूर्व जिलाधिकारी मार्कंडेय शाही और वर्तमान जिलाधिकारी डॉ रुपेश कुमार के कार्यकाल में इनका प्रशासनिक योगदान अन्य अपर जिलाधिकारियों से बेहतर रहा है। प्रतापगढ़ में अब कोरोना संक्रमण का तीसरा दौर शुरू हो चुका है। क्योंकि अब संक्रमण का जो दौर है वो प्रशासनिक अमले तक पहुँच चुका है। ऐसे में अब कोरोना संक्रमण से बचने के लिए विशेष सतर्कता बरतनी चाहिए। 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें