Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

सोमवार, 22 जून 2020

किस कदर झूठ, फरेब व मक्कारी पर उतारू हो चुकी है,कांग्रेस

कांग्रेस के झूठ, फरेब व मक्कारी का घृणित सच साक्ष्यों के साथ...
 रक्षा बजट...
प्रस्तुत फोटो के दो समाचार बता रहे हैं कि 2013-14 में कांग्रेसी यूपीए ने अपने अंतिम बजट में सेना को रक्षा बजट के नाम पर 2.03 लाख करोड़ रुपए दिए थे जबकि इस वर्ष 2020-21 में मोदी सरकार ने अपने रक्षा बजट में सेना को 4.71 लाख करोड़ रुपये दिए हैं यह रकम 2013-14 से 132 प्रतिशत ज्यादा है...
अब ध्यान करिए कि ये पांच कांग्रेसी प्रवक्ता जिनकी फोटो समाचार के साथ ही दी है, वो रोजाना न्यूज चैनलों पर आकर हमारी आपकी और पूरे देश की आंखों में यह कह कर धूल और मिर्चा झोंकते हैं कि यूपीए सरकार सरकार प्रति व्यक्ति 6 हजार रुपये के हिसाब से रक्षा बजट बनाती थी जिसे प्रधानमंत्री मोदी ने घटा कर आधा कर दिया है और अब प्रति व्यक्ति 3000 रुपये के हिसाब से रक्षा बजट में रकम देती है इन कांग्रेसी धूर्तों ने देशवासियों को सम्भवतः अपनी ही तरह मूर्ख और बेशर्म मान लिया है क्योंकि 2012 की जनगणना के अनुसार देश की जनसंख्या 120 करोड़ थी अतः 6000 रुपये प्रति व्यक्ति के हिसाब से रक्षा बजट 7.2 लाख करोड़ का होता 
जबकि इस समाचार को पढ़कर आप वास्तविकता से स्वयं परिचित हो जाएंगे और अधिक पुष्टि करनी हो तो गूगल पर केवल defence budget of india लिखकर आगे वह वर्ष लिख दीजिये और सर्च करिए तो इन कांग्रेसी प्रवक्ताओं के सफ़ेद झूठ का घृणित सच आपके सामने आ जाएगा। गूगल पर प्रत्येक वर्ष का defence budget देख कर गणना करियेगा तो आपको ज्ञात होगा कि 2004 से 2014 तक दस वर्ष में कांग्रेसी यूपीए की सरकार ने रक्षा बजट के रूप में सेना को 12.86 लाख करोड़ रुपये दिए थे जबकि 2014-15 से 2020-21 के बजट तक 7 वर्ष में मोदी सरकार ने रक्षा बजट के रूप में 22.06 लाख करोड़ रुपये सेना को दिए हैं 
प्रस्तुति :- सतीश मिश्र 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें