Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

बुधवार, 27 मई 2020

महाराष्ट्र की गठबंधन सरकार को क्या भाजपा और केंद्र की मोदी सरकार वास्तव में अस्थिर कर रही है ?

राहुल गाँधी के बयान से भी साफ़ हो गया कि कांग्रेस इस गठबंधन सरकार में बने रहने के लिये नहीं रखती कोई भी दिलजस्पी...
गठबंधन की ओर से बार-बार कहा जा रहा है कि उद्धव सरकार को किसी तरह का नहीं है,कोई खतरा

महाराष्ट्र सरकार पर भाजपा की रणनीति से सियासत हुई तेज
कोरोना वायरस संकट के बीच महाराष्ट्र की राजनीति में पल-पल खेल बदल रहा है। पिछले कई दिनों से राज्य में सियासी उठापठक चल रही है। भाजपा लगातार राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग भी कर रही है। भाजपा का आरोप है कि उद्धव सरकार कोरोना का सामना करने में असफल हो रही है। अपनी जिम्मेदारियों से अपना पिंड छुड़ा रही है। जनहित में कार्य करने के बजाय उद्धव सरकार पर प्रवासी मजदूरों के साथ भेदभाव करने का भी आरोप लग रहा है कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गाँधी ने महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार पर कांग्रेस की भूमिका महज एक घटक दल की है सूबे की ठाकरे सरकार में कांग्रेस डिसीजन मेकर की भूमिका नहीं है। उक्त बयान से राजनीतिक पारा चढ़ता देख कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी अपने कल के बयान से पलट गए हैं

अपने बयान से पलटे राहुल गाँधी
महाराष्ट्र में बढ़ते राजनीतिक उठापटक के बीच आज मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सुबह 11 बजे शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस गठबंधन के नेताओं की बैठक बुलाई। खबरों के मुताबिक विधानसभा अध्यक्ष नाना पटोले कल दिल्ली पहुंचे हैं। शिवसेना-एनसीपी नेता लगातार राज्यपाल से मुलाकात भी कर रहे हैं। पिछले तीन दिनों में शिवसेना, एनसीपी नेताओं की राज्यपाल से हो रही मुलाकातें और दोनों पार्टियों के नेताओं के बीच हो रही गुप्त बैठकों ने गठबंधन की सरकार पर कांग्रेस के महत्व पर सवाल खड़े कर दिए हैं। वहीं, कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के बयान से भी साफ हो गया है कि कांग्रेस की गठबंधन की इस सरकार में बन रहने की ज्यादा दिलचस्पी नहीं है। ऐसे में क्या कांग्रेस को अलग रखकर शिवसेना-एनसीपी बिना बीजेपी के साथ लिए महाराष्ट्र की सरकार बनाने में सफल होगी ? क्या भाजपा शिवसेना तोड़कर सरकार बना सकती है ? अंदरखाने से मिल रही आहट तो एनसीपी के बाहरी समर्थन से भाजपा की सरकार फिर से महाराष्ट्र में बनने की भी कवायद तेज हो गई है
बीजेपी लगातार राज्य मे राष्ट्रपति शासन की कर रही है,मांग
महाराष्ट्र में उद्धव सरकार की डगमगाती सत्ता के बीच राहुल गांधी ने किया फोन, महाराष्ट्र में राजनीतिक उठापटक के बीच सीएम उद्धव ठाकरे और कांग्रेस नेता राहुल गांधी के बीच फोन पर बात हुईसियासत बढ़ती देख मंगलवार को कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से फोन पर बात की और शिवसेना ने दावा किया है कि कोरोना के खिलाफ जारी इस दौर में राहुल गांधी ने महाराष्ट्र सरकार को अपना पूरा समर्थन देने का आश्वासन दिया है सूत्रों के मुताबिक सीएम उद्धव ठाकरे से बातचीत में राहुल गांधी ने ठाकरे सरकार को भरोसा दिलाया है कि कांग्रेस सरकार मे साथ खड़ी हैराहुल गाँधी का आरोप है कि उद्धव सरकार की आलोचना से नहीं,बल्कि BJP के राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग से महाराष्ट्र में हो रही है, सियासी दिक्कत

हालांकि गठबंधन की ओर से बार-बार कहा जा रहा है। उद्धव सरकार को किसी तरह का कोई खतरा नहीं है। भाजपा लगातार राज्य में राष्ट्रपति शासन की मांग करके ठाकरे सरकार को मुश्किल में लाने के लिए दबाव बना रही है। महाराष्ट्र की भाजपा इकाई के नेताओं की मांग है कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू हो। वहीं राज्य सरकार को लग रहा है कि केंद्र सरकार कोरोना की स्थिति को देखते हुए राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू कर सकती है और इसी पर चर्चा करने शिवसेना, एनसीपी के नेता राज्यपाल से मिल रहे हैं। सवाल ये है कि इन बैठकों से कांग्रेस गायब क्यों है ? अब राज्य में राष्ट्रपति शासन लगेगा या नए फार्मूले वाली सरकार बनेगी ये आने वाले दिनों में स्पष्ट हो जाएगा

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें