Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

शुक्रवार, 22 मई 2020

मायाबी मीडिया के भंवर से बाहर निकलिए और एक्टिव कोरोना संक्रमित मरीजों पर नजर रखिये

देश में सबसे अधिक कोरोना का संक्रमण महाराष्ट्र में है और वहाँ मौत का आकड़ा भी सबसे अधिक हैसच जानने का प्रयास करिये भ्रम में मत रहिये
22मई,2020 के ताजा आकड़ों पर आधारित खबर...

देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 118226 बतायी जा रही है,लेकिन यह ठीक नहीं है
क्योंकि इनमें से 48533 कोरोना संक्रमित अब तक पूर्ण रूप से संक्रमण मुक्त होकर स्वस्थ हो चुके हैं अतः आज देश में कोरोना संक्रमितों की वास्तविक संख्या-66082 ही है स्वास्थ्य मंत्रालय अपने दैनिक बुलेटिन में "एक्टिव कोरोना संक्रमित" नाम से यह संख्या बहुत स्पष्ट शब्दों में रोजाना बताता भी है अखबारों में यह संख्या भी नियमित रूप से छपती हैलेकिन कानफाड़ डरावने बैकग्राउंड म्यूज़िक से लयताल मिलाती हुई अपनी अजीबोगरीब भाव भंगिमाओं के साथ चीख चीखकर एक लाख के पार हुई... एक लाख के ऊपर पहुंची... कोरोना संक्रमितों की संख्या

 "सिर्फ TRP के चक्कर में ऐसे डरावने शब्दों का इस्तेमाल कोरोना वायरस संक्रमण के सम्बन्ध में न्यूज़ एंकरों के द्वारा किया जाता है कि लोग सुनकर डर जाएंऐसा भाव पेशकर सनसनी फैला रहे विदूषकीय एंकरों की करतूतों से आप भयभीत या भ्रमित मत होइए अब यह सच भी जान लीजिए कि आज देश में कोरोना संक्रमितों की वास्तविक संख्या-66082 का आधे से अधिक भाग लगभग 52% हिस्सा(34360) देश के केवल 2 राज्यों में हैदेश की आर्थिक राजधानी मुंबई और महाराष्ट्र की बात करें तो वहाँ अकेले "एक्टिव कोरोना संक्रमितों" की संख्या- 28462 पहुँच चुकी हैजबकि देश की राजधानी दिल्ली में "एक्टिव कोरोना संक्रमितों" की संख्या- 5898पहुँच चुकी है"
क्या यह तथ्य आश्चर्य चकित करने और चौंकाने वाला नहीं है कि भारत के 28 राज्यों और 9 केंद्र शासित प्रदेशों में से केवल 2 राज्यों में "एक्टिव कोरोना संक्रमितों" की संख्या 52% है और देश के शेष 26 राज्यों और 9 केंद्र शासित प्रदेशों में "एक्टिव कोरोना संक्रमितों" की संख्या मात्र 48% है आज एक अन्य तथ्य और स्पष्ट कर दूं कि क्योंकि मैं लगातार ऐसे तथ्यों से आप लोगों को अवगत करा रहा हूंइसलिए कुछ मित्रों ने पूछा कि मैं गुजरात के बजाय दिल्ली को अपने ऐसे विश्लेषण में क्यों शामिल करता हूं, गुजरात को क्यों शामिल नहीं करता ? तो आज उन मित्रों समेत सभी मित्र यह जान लें कि देश में कोरोना संक्रमितों की सर्वाधिक संख्या वाले प्रदेशों को चिन्हित करते समय यदि उन राज्यों की जनसंख्या को आप अनदेखा कर देते हैं तो वह विश्लेषण व्यर्थ हो जाता है

विश्लेषण यदि तथ्यों पर आधारित होता है, तभी सत्यता की कसौटी पर वह खरा उतरता है। आईये देश में कोरोना संक्रमण के सम्बन्ध में एक आकड़ों पर आधारित साफ सुथरा सर्वेक्षण करते हैंजैसे कि दिल्ली की जनसंख्या लगभग 2 करोड़ है और गुजरात की जनसंख्या लगभग 6.5 करोड़ है अर्थात्‌ दिल्ली से लगभग सवा तीन गुना अधिक लेकिन दिल्ली में "एक्टिव कोरोना संक्रमितों" की संख्या- 5898 है और गुजरात में "एक्टिव कोरोना संक्रमितों" की संख्या- 6649 है अर्थात्‌ दिल्ली से गुजरात की जनसंख्या मात्र 24% है। यानि दोनों में तीन गुना का अंतर है अतः देश में सर्वाधिक "कोरोना संक्रमितों" या "एक्टिव कोरोना संक्रमितों" की सूची में देश के टॉप 2 प्रदेश महाराष्ट्र और दिल्ली ही हैं बल्कि जनसंख्या के आधार पर आप गणना करेंगे तो पाएंगे कि दिल्ली की हालत महाराष्ट्र से भी बदतर ही नहीं, बल्कि महाराष्ट्र से बहुत ज्यादा बद्तर हो चुकी है इसे बस यूं समझ लीजिए कि दिल्ली से महाराष्ट्र की जनसंख्या छः गुना अधिक हैलेकिन केजरीवाल के विज्ञापनों के घुंघरू बांधकर बेसुध नाच रही मीडिया ने यह सच आपको अब तक नहीं बताया है और न ही बताएगी

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें