Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

शनिवार, 30 मई 2020

उत्तर प्रदेश शासन लिखी गाड़ी से हनक के साथ होती रही,गांजा तस्करी।

सांसद ही नहीं कैबिनेट मंत्री का भी करीबी है,गांजा तस्कर गिरोह का सरगना सोनू जायसवाल...

कैबिनेट मंत्री मोती सिंह का स्वागत करते गांजा तस्कर का सरगना विपिन जायसवाल उर्फ़ सोनू 
भाजपा सांसद का करीबी प्रधान संघ का ब्लाक अध्यक्ष निकला अन्तर्राज्यीय गांजा तस्कर गिरोह का सरगना निकला। प्रतापगढ़ पुलिस के हत्थे चढ़ा अन्तर्राज्यीय गांजा तस्कर गिरोह लगभग 3 कुंतल गांजा, 1 लाख, 60 हजार नकदी, उत्तर प्रदेश शासन का मोनोग्राम बनाकर सफारी से होती थी बिना रोकटोक के गांजा की तस्करी इंडिगो और 5 मोबाइल के साथ 4 तस्कर गिरफ्तार जबकि सरगना समेत 4 गांजा तस्कर अभी भी हैं,फरार। पुलिस अधीक्षक ने प्रेस वार्ता में बताया कि कोहड़ौर थाना इलाके के मदाफरपुर गांव का दबंग प्रधान विपिन कुमार उर्फ सोनू जायसवाल गिरोह का सरगना है जो अभी पुलिस की गिरफ्त से दूर है। सरगना का साला सलवन निवासी सोनू जायसवाल समेत 4 लोंगो को माल की बरामदी के साथ गिरफ्तार किया गया है, जबकि मुख्य सरगना प्रधान संघ का ब्लाक अध्यक्ष विपिन कुमार उर्फ सोनू जायसवाल सहित 4 अभियुक्त अभी भी पुलिस की गिरफ्त से दूर है, जिनकी धरपकड़ को पुलिस हांथ पांव मार रही है।

सांसद संगम लाल गुप्ता का स्वागत करते मदाफरपुर के प्रधान विपिन जायसवाल उर्फ़ सोनू 
पुलिस अधीक्षक का दावा है कि इस गिरोह की एक माह से निगरानी की जा थी और अब जाकर हमारी टीम जिसकी अगुआई अपर पुलिस अधीक्षक पूर्वी सुरेंद्र दुबे, सीओ पट्टी रमेशचन्द्र कर रहे थे इस टीम में शामिल स्वाट टीम व कंधई पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। ये गिरोह उड़ीसा से भारी मात्रा में गांजे की खेप लाकर जिले में गांजा डंप करता था फिर अपनी सुविधानुसार आसपास के जिलों में उसे खपाया करते थे। इस गिरोह में कई जिलों के तस्कर शामिल है पूंछतांछ के आधार पर अभी अन्य की तलाश जारी है। सबसे महत्वपूर्ण बात ये है कि ऐसे तस्कर सत्ताधारी दल के नेताओं से जुड़े होते हैं और उनके चुनावी जनसभा से लेकर उनके स्वागत समारोह में होने वाले खर्च को वो बर्दाश्त करते हैं ताकि पुलिस प्रशासन उन पर अपना कानूनी शिकंजा कसने से पहले एक हजार बार विचार करे। इस गिरोह का सरगना भी भाजपा सांसद संगमलाल गुप्ता और कैबिनेट मंत्री राजेंद्र प्रताप उर्फ मोती सिंह का चहेता है

पुलिस अधीक्षक का दावा है कि इस गिरोह की एक माह से निगरानी की जा थी और अब जाकर हमारी टीम जिसकी अगुआई अपर पुलिस अधीक्षक पूर्वी सुरेंद्र दुबे, सीओ पट्टी रमेशचन्द्र कर रहे थे इस टीम में शामिल स्वाट टीम व कंधई पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। ये गिरोह उड़ीसा से भारी मात्रा में गांजे की खेप लाकर जिले में गांजा डंप करता था फिर अपनी सुविधानुसार आसपास के जिलों में उसे खपाया करते थे। इस गिरोह में कई जिलों के तस्कर शामिल है पूंछतांछ के आधार पर अभी अन्य की तलाश जारी है। सबसे महत्वपूर्ण बात ये है कि ऐसे तस्कर सत्ताधारी दल के नेताओं से जुड़े होते हैं और उनके चुनावी जनसभा से लेकर उनके स्वागत समारोह में होने वाले खर्च को वो बर्दाश्त करते हैं ताकि पुलिस प्रशासन उन पर अपना कानूनी शिकंजा कसने से पहले एक हजार बार विचार करे। इस गिरोह का सरगना भी भाजपा सांसद संगमलाल गुप्ता और कैबिनेट मंत्री राजेंद्र प्रताप उर्फ मोती सिंह का चहेता है

जिले के लोगों के मन ये उत्सुकता है कि आखिर ये सोनू जायसवाल कौन है ? सोनू जायसवाल के विषय में जानने से पहले ये जानना आवश्यक है कि सोनू जायसवाल की पृष्ठभूमि क्या है ? ये दबंग कब और कैसे हुआ ? बताते चले कि सोनू जायसवाल सैकड़ों वर्ष से लगने वाली मदाफरपुर इलाकाई की बड़ी बाजार मालिक सेठ रहे स्व.बच्चा शाहू का पपौत्र है सोनू जायसवाल के पिता पप्पू जायसवाल हैं जो जायसवाल समाज,प्रतापगढ़ के जिलाध्यक्ष भी रहे हैं। सेठ बच्चा शाहू के लड़के राधेश्याम जायसवाल रहे और राधेश्याम जायसवाल के लड़के पप्पू जायसवाल हैं राधेश्याम जायसवाल तक मामला ठीक रहा और पप्पू के हाथ में कमान आते ही सेठ बच्चा शाहू की बनाई मार्केट का बंटाधार होने लगा l बची खुची कसर पप्पू जायसवाल के लड़के सोनू जायसवाल पूरी कर दिए जब से सोनू जायसवाल राजनीति और धंधे में उतरे तब से सेठ बच्चा शाहू के बनाये हुए साम्राज्य में दिन प्रतिदिन गिरावट आने लगी

जिले के लोगों के मन ये उत्सुकता है कि आखिर ये सोनू जायसवाल कौन है ? सोनू जायसवाल के विषय में जानने से पहले ये जानना आवश्यक है कि सोनू जायसवाल की पृष्ठभूमि क्या है ? ये दबंग कब और कैसे हुआ ? बताते चले कि सोनू जायसवाल सैकड़ों वर्ष से लगने वाली मदाफरपुर इलाकाई की बड़ी बाजार मालिक सेठ रहे स्व.बच्चा शाहू का पपौत्र है सोनू जायसवाल के पिता पप्पू जायसवाल हैं जो जायसवाल समाज,प्रतापगढ़ के जिलाध्यक्ष भी रहे हैं। सेठ बच्चा शाहू के लड़के राधेश्याम जायसवाल रहे और राधेश्याम जायसवाल के लड़के पप्पू जायसवाल हैं राधेश्याम जायसवाल तक मामला ठीक रहा और पप्पू के हाथ में कमान आते ही सेठ बच्चा शाहू की बनाई मार्केट का बंटाधार होने लगा l बची खुची कसर पप्पू जायसवाल के लड़के सोनू जायसवाल पूरी कर दिए जब से सोनू जायसवाल राजनीति और धंधे में उतरे तब से सेठ बच्चा शाहू के बनाये हुए साम्राज्य में दिन प्रतिदिन गिरावट आने लगी


गांजा तस्करी के धंधे से मालामाल हुए विपिन जायसवाल उर्फ सोनू बकायदा एक गिरोह बनाकर उसका सरगना बन बैठा और इलाके में अपनी दबंगई के बल पर अपना जलवा बिखेरना लगासोनू जायसवाल की राजनीति ग्राम प्रधान के चुनाव से शुरु हुई राजनीतिक लोगों को अपने यहाँ बाजार में बुलाकर उनका स्वागत करना सोनू जायसवाल की एक फितरत होती थी ताकि पुलिस प्रशासन उनके संबंधो को ध्यान में रखकर उनके अनुचित कार्यों में हस्तक्षेप न करे और इलाके के लोग उनकी दासता स्वीकार करें सोनू अनाज की भी कालाबाजारी करते रहे और इनकी दबंगई के आगे कोई अपना मुंह नहीं खोल पाता था किशुनगंज और मदाफरपुर सड़क पर पेट्रोल पम्प के बगल मदाफरपुर बाजार से एक किमी पहले मंगरौरा ब्लाक की पीडीएस की गोदाम है और इस गोदाम से जो अनाज की कालाबाजारी की जाती है उसे पूरी तरह से सोनू जायसवाल ही हैंडिल करते रहे हैं कई मार्केटिंग इंस्पेक्टर सोनू जायसवाल के चक्रब्यूह में फंसकर अपना लाखों रूपये का नुकसान भी उठा चुके हैं,परन्तु दो नम्बर के धंधे में शिकायत भी तो नहीं की जा सकती थी। अन्ततोगत्वा मार्केटिंग इंस्पेक्टरों को अपना नुकसान उठाकर चुप रहने में ही भलाई समझ में आती थी,आज वो सोनू जायसवाल के गांजा तस्करी की खबर से बहुत खुश हैं


इलाके का दबंग विपिन कुमार उर्फ सोनू जायसवाल जो फिलहाल अभी फरार है और पुलिस उसे दबोचने के लिए हाँथपांव मार रही है। फिलहाल यह तो समय ही बताएगा कि सांसद और कैबिनेट मंत्री के चहेते के गिरेबान तक पुलिस के हांथ पहुचते हैं या फिर कांप जाएंगे, सत्ता के आगे पुलिस के हांथ ! लगभग 55 लाख कीमत के अवैध गांजा के साथ 4 शातिर गांजा तस्कर गिरफ्तार कर प्रतापगढ़ की पुलिस जहाँ अपनी पीठ अपने हाथों से थपथपा रही है वहीं उसके सामने सरगना सोनू जायसवाल के राजनीतिक रसूखों की चुनौती भी है। उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में किस तरह से रसूखदारों से संबंध बनाकर गांजे की तस्करी का कार्य बड़े पैमाने पर किया जा रहा था। इसका खुलासा 30 मई, 2020 को हुआ। पुलिस अधीक्षक अभिषेक सिंह ने अन्तर्राज्यीय गांजा तस्कर गिरोह का खुलासा किया, जिसमें उसका सरगना न केवल प्रधान निकला बल्कि प्रधान संघ का ब्लाक अध्यक्ष है और स्थानीय भाजपा सांसद संगमलाल गुप्ता और योगी सरकार के प्रभावशाली कैबिनेट मंत्री राजेंद्र प्रताप उर्फ मोती सिंह से भी नजदीकी बना रखा है।

तस्करों से बरामद 2 क्विंटल 85 किलोग्राम अवैध गांजा...
गिरफ्तार अभियुक्तों का विवरण...
सगीर उर्फ नन्हे पुत्र मो. नजीर निवासी चनुआडीह थाना कोहडौर जनपद प्रतापगढ। अब्दुल्ला पुत्र स्व. बदरूद्दी निवासी आममऊ ककरहा थाना अन्तू जनपद प्रतापगढ। रमेश जयसवाल पुत्र ओम प्रकाश निवासी संतापुर थाना अन्तू जनपद प्रतापगढ़। सोनू जयसवाल पुत्र गया प्रसाद निवासी सलवन थाना सलवन जनपद रायबरेली।
प्रकाश में आये अभियुक्तों का विवरण...
मुइनुद्दीन उर्फ बब्लू पुत्र जमालुद्दीन निवासी नेवा दानूपुर थाना लम्भुआ जनपद सुल्तानपुर। मनोज जयसवाल पुत्र सूर्यबली निवासी कालाकांकर थाना नवाबगंज जनपद प्रतापगढ़। सोनू जयसवाल उर्फ विपिन कुमार पुत्र अरबिन्द उर्फ पप्पू निवासी मदाफरपुर थाना कोहडौर जनपद प्रतापगढ़। गुड्डू सिंह पुत्र राजेन्द्र सिंह निवासी गौरामाफी थाना सलवन जनपद प्रतापगढ़।
बरामदगी-
2 क्विंटल 85 किलोग्राम अवैध गांजा। एक अदद टाटा सफारी नं0 यूपी 94-H-4400, एक अदद इण्डिका सीएस नं0 यूपी 72-AA-9132 व 05 अदद मोबाइल फोन और अवैध गांजा बिक्री के 1,60,000/- रू0 नकद (एक लाख साठ हजार रूपये)।
गिरफ्तारी का स्थान...
दिनांक- 29 मई,2020, दरछुट पी एच सी अस्पताल के पास थाना कन्धई जनपद प्रतापगढ़।


 पुलिस टीम और गांजा तस्करी से जुड़े लोग...
पूछतांछ का विवरण...

पुलिस द्वारा की गयी पूछताछ मे गिरफ्तार अभियुक्तों ने बताया कि अभी आप के आने के कुछ देर पहले हमारे चार अन्य साथीमनोज जयसवालमुइनुद्दीन उर्फ बब्लूगुड्डू सिंह व सोनू जयसवाल उर्फ बिपिन कुमार जो अपना-अपना माल लेने आये थेजिसमें से मनोज जयवाल ने अपना 25 किलो अवैध गांजा ले लिया और लाख 60 हजार रूपये दिया जो आप लोगों के द्वारा बरामद कर लिया गया है। मुइनुद्दीन उर्फ बब्लूगुड्डू सिंह व सोनू जायसवाल उर्फ बिपिन कुमार ने अपना-अपना अवैध गांजा लेने के लिये वाहन लाने की बात कह कर चले गये कि कुछ देर बाद आप लोग आ गये।

अभियुक्त नन्हे उर्फ सगीर ने बताया कि मै यह धन्धा गुड्डू सिंह व सोनू जायसवाल के साथ मिलकर 04-05 वर्ष से कर रहा हूं। वह लोग उडीसा, आन्ध्र प्रदेश से अवैध गांजा 05-07 हजार रूपये प्रतिकिलो की दर से मंगाकर यहां प्रतापगढ़, जौनपुर, रायबरेली, प्रयागराज, अमेठी, फतेहपुर, सुल्तानपुर आदि जनपदों में वही अवैध गांजा 15-20 हजार रूपये प्रतिकिलो की दर से बेंचते है। मेरे पास एक ट्रक है जो सम्मिलित रूप से लिया गया है, जिससे माल आन्ध्र प्रदेश व उडीसा से मंगाया जाता है, किसी महीने में एक बार व किसी महीने में 02 बार माल मंगाया जाता है। इस बार हमने यह माल (अवैध गांजा) मोमफली के बोरे बीच में रखकर मंगवाया था। आन्ध्र प्रदेश में मधू नामक व्यक्ति से गांजा लिया जाता है जिससे गुड्डू सिंह वार्ता करता है। आने के लिये रास्ता व गांजा कहां उतरेगा उसका स्थान हम तीनो लोग (नन्हेगुड्डू सिंह व सोनू जायसवाल) मिलकर तय करते हैं। 

प्रतापगढ़ में माल आने के उपरान्त कुछ लोगों को हम उनके बताये बताये पते पर अब्दुल्ला व मुइनूद्दीन उर्फ बब्लू के माध्यम से भी माल पहुंचाते हैं। रमेश जायसवाल व मनोज जायसवाल हमारे पुराने बड़े ग्राहक हैंइनके माध्यम से हम लोग काफी माल सप्लाई करते हैं। मनोज जायसवाल का साला सोनू जयसवाल जो मेरे साथ पकड़ा गया हैयह रायबरेली का काम करता है। गिरफ्तार अभियुक्त अब्दुल्ला व मुइनुद्दीन उर्फ बब्लू जनपद प्रयागराज से सन 2016 में 130 किलोग्राम अवैध गांजा के साथ एसटीएफ द्वारा गिरफ्तार कर जेल भेजे जा चुके हैंजो अभी कुछ महीने पहले ही छूटकर आये हैं। अभियुक्तों द्वारा बताये गये तथ्यों के आधार पर प्रकाश में आये अन्य अभियुक्तों की भी गिरफ्तारी का प्रयास किया जा रहा है।
पंजीकृत अभियोग...
मु.अ.स.183/20 धारा-8/20एनडीपीएस एक्ट बनाम उपरोक्त सभी अभियुक्त।
पुलिस टीम-

स्वाट प्रभारी निरीक्षक अजय कुमार सिंहमुख्य आरक्षी तहसीलदार तिवारीकांस्टेबल जागीर सिहकांस्टेबल अरबिन्द दुबेकांस्टेबल सत्यम यादव स्वाट टीम जनपद प्रतापगढ़ के प्रभारी निरीक्षक विपिन कुमार सिंहउप निरीक्षक संतोष मिश्राउप निरीक्षक अनुज यादवउप निरीक्षक संदीप कुमारमुख्य आरक्षी कृष्णकान्त रायआरक्षी विवेक यादवआरक्षी कुलदीपआरक्षी चालक विश्वासमहिला आरक्षी तनुजा व महिला आरक्षी दीपिका थाना कन्धई जनपद प्रतापगढ़।


पुलिस अधीक्षक अभिषेक सिंह प्रेस वार्ता कर गांजा तस्करी का बड़ा खुलासा करते हुए...
एसपी ने सोनू उर्फ विपिन जायसवाल को बताया सरगना...
पुलिस अधीक्षक अभिषेक सिंह ने इस गिरोह का सरगना सोनू उर्फ विपिन जायसवालप्रधान मदाफरपुर को सरगना बताया है। पुलिस अधीक्षक का कहना है कि सोनू ही इस धंधे में पैसा लगाता है और मुनाफा कमाता है। उधर तस्करों के पास से जो सफारी गाड़ी बरामद हुई है वह कानपुर आरटीओ में गुड्डू शर्मा के नाम से पंजीकृत है। वह गाड़ी इन लोगों के पास कैसे पहुंची। पुलिस इसकी भी पड़ताल कर रही है।


गांजा तस्करी का सरगना विपिन जायसवाल उर्फ़ सोनू...
विपिन जायसवाल उर्फ सोनू ने वीडियो जारी कर खुद को बताया निर्दोष...
अधीक्षक अभिषेक सिंह द्वारा किये गये खुलासे के कुछ देर बाद ही विपिन जायसवाल उर्फ सोनू ने अपना वीडियो जारी कर खुद को निर्दोष बताया है। जबकि प्रतापगढ़ पुलिस का दावा है कि वह गांजा तस्कर सोनू जायसवाल को खोजने में दिन रात एक करके खोज रही है। वहीं गांजा तस्करी का सरगना सोनू जायसवाल अपना वीडियो जारी कर रहा है और कह रहा है कि राजनैतिक साजिश के तहत उसे इस मामले में फंसाया जा रहा है। जो लोग गिरफ्तार किये गये हैं, उनमें से कोई भी उनका न तो सगा है और न ही रिश्तेदार है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें