Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

शनिवार, 9 मार्च 2019

क्यों मनाया जाता है,महिला दिवस...?

क्या अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस महज औपचारिकता है...? वर्ष-1909 में अमेरिका में मनाया गया था,पहला महिला दिवस...!!!
नई दिल्ली साल के 365 दिनों में कोई न कोई दिवस आता रहता है। उसी क्रम में महिला दिवस भी है। महिला दिवस भी प्रतिवर्ष की भांति किटी पार्टियों रईसों के क्लबों में मना लिया गया। 5 स्टार होटलों, सरकारी सभागारों में सम्पन्न सेमिनारों में सेलिब्रेटी समाज सेविकाओं तथा नेताओं के दावों-नारों और पेशेवर NGO's की बैठकों सभाओं में मूसलाधार बरसे मगरमच्छी आंसुओं की प्रेस विज्ञप्तियों को अखबारों के दफ्तरों तक पहुंचाने के बाद शाम को बेहतरीन स्कॉच के गिलासों की चीयर्स वाले जयकारे से सजी खनखनाहट के साथ "महिला दिवस" आज बहुत धूम-धाम से सम्पन्न हो गया।
सिर्फ दिखावे के लिए "अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस" 8 मार्च को ही हर साल मनाया जाता है। आज भी महिलाओं की स्थिति में जो बदलाव आने चाहिए वो नहीं आ सके हैं कहते हैं कि सबसे पहला महिला दिवस अमेरिका के न्यूयॉर्क में वर्ष-1909 में मनाया गया था। महिलाओं ने अपने अधिकारिकों की खातिर ही इस दिन को मनाने की मांग की थी। आज यानी 8 मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस है। एक ऐसा दिन जब महिलाएं अपनी आजादी का जश्न खुलकर मनाती हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि महिला दिवस 8 मार्च को ही क्यों मनाया जाता है ? कब से इसकी शुरुआत हुई ? क्या हैं, इससे जुड़ी अन्य खास बातें ? आइए आपको बताते हैं। दरअसल वर्ष-1908 में एक महिला मजदूर आंदोलन की वजह से महिला दिवस मनाने की परंपरा की शुरूआत हुई। इस दिन 15 हज़ार महिलाओं ने नौकरी के घंटे कम करने, बेहतर वेतन और कुछ अन्य अधिकारों की मांग को लेकर न्यूयार्क शहर में प्रदर्शन किया। एक साल बाद सोशलिस्ट पार्टी ऑफ़ अमेरिका ने इस दिन को पहला राष्ट्रीय महिला दिवस घोषित किया।
वर्ष-1910 में कोपेनहेगन में कामकाजी महिलाओं का एक अन्तरराष्ट्रीय सम्मेलन हुआ, जिसमें इस दिन को अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस के तौर पर मनाने का सुझाव दिया गया और धीरे धीरे यह दिन दुनिया भर में अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में लोकप्रिय होने लगा। इस दिन को अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में मान्यता 1975 में मिली, जब संयुक्त राष्ट्र ने इसे एक थीम के साथ मनाने की शुरूआत की। वर्ष-1917 में रूसी महिलाओं ने पहले विश्व युद्ध के प्रति विरोध जताकर महिला दिवस मनाया था। उस वक्त रूस के नेता ज़ार निकोलस ने पेट्रोग्रेड मिलिट्री डिस्ट्रिक्ट के जनरल खाबलो को निर्देश दिया कि वह जारी विरोध-प्रदर्शन को रुकवाएं और जो भी महिला इसका विरोध करे उसे गोली मार दें। लेकिन इस धमकी से कोई भी महिला नहीं डरी और हर मुसीबत का डटकर सामना किया। इन महिलाओं की अदम्य साहस से पस्त होकर रूसी नेता ज़ार को अपने हथियार डालने पड़े और उन्होंने सत्ता त्याग दी। वहीं यूनाइटेड नेशन्स ने आधिकारिक तौर पर, 8 मार्च, 1975 को पहला अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया था। आपको जानकर हैरानी होगी कि दुनिया में कई ऐसे देश हैं,जहां अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर महिलाओं को छुट्टी दी जाती है। अफगानिस्तान, क्यूबा, वियतनाम, युगांडा, कंबोडिया, रूस, बेलरूस और यूक्रेन कुछ ऐसे देश हैं जहां 8 मार्च को आधिकारिक छुट्टी होती है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें