Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

बुधवार, 6 मार्च 2019

आयुध फैक्ट्रियों में युद्धस्तर पर हो रहा युद्ध प्रयुक्त सामग्रियों का निर्माण

ऑर्डिनेंस फैक्ट्री खमरिया ने वायुसेना को भेजी बमों की बड़ी खेप...!!!
एयर स्ट्राइक के दौरान "OFK" में ही बमों का इस्तेमाल कर एयरफोर्स ने आतंकियो समेत ध्वस्त कर डाला था,लॉन्चिंग पैड...!!!  
मार्च तक करना है पूरा टॉरगेट,इसीलिए उत्पादन में लायी जा रही तेजी-अमित सिंह
पाकिस्तान भारत के बीच बढ़ रहे तनाव के बीच आयुध निर्माणियों में भी युद्ध स्तर पर तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। देश के हालातों को देखते हुए सेना की ताकत बढ़ाने के लिए आयुध निर्माणियों के कर्मचारी तैयार हैं। फैक्ट्री प्रशासन भी स्थिति की समीक्षा कर रहा है। यही वजह है कि रक्षा मंत्रालय से आदेश नहीं आने के बाद भी बमों का उत्पादन तेज कर दिया गया है। ऑर्डनेंस फैक्ट्री खमरिया (ओएफके) ने वायुसेना को बमों की बड़ी खेप भेजी है। हालांकि, फैक्ट्री प्रशासन ने इसे नियमित सप्लाई का हिस्सा बताया है। आयुध निर्माणियों को ऑर्डनेंस फैक्ट्री बोर्ड से मिले लक्ष्य को मार्च तक पूरा करना है। इसलिए ओएफके और वीकल फैक्ट्री में अन्य महीनों की तुलना में उत्पादन में तेजी आई है। ओएफके में बने बमों का उपयोग आतंकी ठिकानों को ध्वस्त करने में किया गया है।
कई तरह के उत्पाद होते हैं तैयार...
ओएफके में देश की तीनों सेनाओं के लिए आयुध तैयार किए जाते हैं। नियमित अंतराल पर इनकी सप्लाई सेना को की जाती है। इसी प्रक्रिया के तहत 1000 पॉन्डर, एरियल बम और अन्य उत्पाद भेजे गए हैं। वीकल फैक्ट्री में भी वाहनों का उत्पादन तेज हो गया है। जीसीएफ में भी लाइट फील्ड गन का उत्पादन होता है। नियमित अंतराल में सेना को बमों की सप्लाई की जाती है। इसी प्रक्रिया के तहत एक खेप भेजी गई है। मार्च तक टारगेट पूरा करना है। इसलिए उत्पादन में तेजी लाई जा रही है।
- अमित सिंह, जन सम्पर्क अधिकारी, ओएफके

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें