नहीं मंजूर कोई डील,हिंदुस्तान को चाहिए सिर्फ और सिर्फ उसका जाबाज जवान अभिनंदन-भारत सरकार

7:47:00 pm 0 Comments Views

मोदी सरकार की कूटनीतिक चक्रव्यूह में घिर छटपटा रहा पाकिस्तान,कभी भी बजरिये रेडक्रॉस सौंप सकता है वर्द्धमान अभिनंदन को...!!!
पीएम मोदी ने आक्रामक विदेशी कूटनीति के तहत तुरन्त विदेश मंत्री स्वराज को रवाना किया था,चीन...!!!
दिल्ली में थल,जल,वायुसेना प्रमुखों समेत आईबी,रॉ चीफ़ के साथ बैठक कर मोदी ने पाक को जता दिया कि सकुशल वापसी न हुई तो,परिणाम ठीक न होगें...???
 
पाक की कैद में पायलट पर मोदी सरकार ने पाकिस्तान को चेतावनी वाले लहजे में कहा कि हमें पायलट की वापसी चाहिए, डील नहीं, इमरान खान पहले करें कार्रवाई। भारत और पाकिस्तान के बीच कायम तनातनी के बीच पाक की कैद में भारतीय पायलट के मामले में भारत ने पाकिस्तान को स्पष्ट शब्दों में कहा कि हमें पायलट की तुरंत वापसी चाहिए।भारत सरकार ने कहा कि हम इस मामले में कोई डील नहीं चाहते हैं।अगर पाक डील चाहता है तो हम ऐसा नहीं करेंगे।विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तान को कहा कि हमें पायलट की रिहाई चाहिए। हम एक्ससेस नहीं मांग रहे हैं। बताया जा रहा है कि भारत  ने यह बयान एक अहम बैठक के बाद जारी किया है।ये बैठक पीएम नरेंद्र मोदी ने थल,जल,नभसेना के तीनों प्रमुख, रॉ और आईबी के चीफ के साथ पाकिस्तान को प्रत्येक स्तर पर मुहतोड़ जवाब देने की रणनीति बनाने के सन्दर्भ में कई।
विदेश मंत्रालय ने कहा कि अगर पाकिस्तान डील चाहता है, तो कुछ नहीं होगा. हमे वापसी चाहिए, डील नहीं।भारत ने पाकिस्तान की हिरासत में मौजूद भारतीय पायलट से मुलाकात के लिए कॉन्स्यूलर एक्सेस नहीं मांगी, तुरंत रिहा करने के लिए कहा है. साथ ही पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान भरोसेमंद माहौल दें,तब वार्ता पर विचार किया जा सकता है। सूत्रों के अनुसार मोदी सरकार की  तगड़ी कूटनीतिक चक्रव्यूह ने सारी दुनियां में पाकिस्तान को पुलवामा हमले के बाद अलग थलग करने में कामयाब रहा है,यहाँ तक कि मजबूत साथी चीन,सऊदी अरब जैसे देशों ने भी उससे मुँह मोड़ भारत के साथ खड़े नजर आ रहे है। चीन को समझाने में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज चीन जा पहुँची तो दुनियां के कई ताकतवर देशों ने भी कूटनीतिक संदेशों के जरिये पाक पर दबाव बना दिया। जिसका परिणाम ये रहा कि भारत को एटम बम की धमकी देकर तबाह कर देने की धौंस देने वाला आतंकियो का आका पाक रेडक्रॉस के जरिये कभी भी विंग कमाण्डर अभिनन्दन वर्द्धमान को भारत को सौंप सकता है।
दरअसल, 27 फरवरी को भारत और पाकिस्‍तान दोनों तरफ जवाबी कार्रवाई को लेकर खबरें जोरों पर रहीं।पाकिस्‍तान ने एलओसी इलाके में अपने लड़ाकू विमान से घुसपैठ की कोशिश की जिसे भारतीय वायु सेना ने नाकाम कर दिया। पाकिस्‍तानी विमान का मलबा पाक अधिकृत कश्‍मीर में मिला।इस दौरान भारतीय वायुसेना के एक मिग विमान का नुकसान हो गया। भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता ने कहा कि हमारा एक पायलट लापता है।बाद में उसके पाकिस्‍तान में बंधक बनाए जाने की सूचना मिली। भारत ने पाकिस्‍तान के अधिकारियों को तलब किया और पाकिस्‍तान में कैद विंग कमांडर अभिनन्दन वर्द्धमान को सुरक्षित वापस करने को कहा।इस बीच पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत के साथ फिर से बातचीत का राग अलापा। पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री ने कहा कि जंग हुई तो यह किसी के काबू में नहीं रहेगी। इमरान खान ने कहा कि हम भारत को बातचीत के लिए आ‍मंत्रित करते हैं।
27 फरवरी की शाम में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सेना प्रमुखों के साथ तकरीबन एक घंटे बात की।साथ में राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल भी उपस्‍थ‍ित थें।उच्‍चस्‍तरीय बैठक के बाद दिल्‍ली मेट्रो के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया और प्रत्‍येक दो घंटे पर स्‍टेशन कंट्रोलर को सूचना देने का भी निर्देश दिया गया। इससे पहले 14 फरवरी को पुलवामा में हुए एक आत्‍मघाती हमले में सीआरपीएफ के 44 जवान शहीद हो गए थें।हमले की जिम्‍मेदारी पाकिस्‍तान स्‍थ‍ित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्‍मद ने ली थी।भारत ने इसके अगले दिन ही सेना को खुली छूट देने की बात कही थी और पाकिस्‍तान से 'मोस्‍ट फेवरेट नेशन' दर्जा वापस ले लिया था। इसके बाद Pak,Pok में हुए एयर फोर्स के इस ऑपरेशन में जैश के सैकड़ो आतंकवादी मारे गए थें। 26 फरवरी की रात में वायु सेना ने अपने एयर स्ट्राइक कर  पाकिस्‍तान के बालाकोट स्‍थ‍ित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्‍मद के कैंप को ध्‍वस्‍त कर दिया था।भारत के इस कार्रवाई का पूरी दुनिया ने समर्थन किया। मोदी सरकार की कूटनीतिक कोशिश रंग लाते दिख रही है और दबाव में आया पाकिस्तान कभी भी विंग कमाण्डर अभिनन्दन वर्द्धमान को पाक रेडक्रॉस के जरिये भारत को सौप सकता है।

rameshrajdar

एक खोजी पत्रकार की सत्य खबरें जिन्हे पूरा पढ़े बिना आप रह ही नहीं सकते हैं ,इस खबर को पढ़ने के लिए............| Google || Facebook

0 टिप्पणियाँ: