Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

रविवार, 17 फ़रवरी 2019

आतंकी मसूद अजहर के भतीजे की मौत का बदला लेने के लिए किया गया था,पुलवामा में CRPF के जवानों पर बर्बरता पूर्ण हमला

ये वही मसूद अजहर है जिसे वाजपेयी सरकार मे कंधार विमान हाईजैक करके छुड़ाया गया था...!!! 
जम्मू-कश्मीर। पुलवामा आतंकी हमले को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है। सूत्रों के मुताबिक आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के चीफ मसूद अजहर ने अपने भतीजे उस्मान हैदर की मौत का बदला लेने के लिए ये आतंकी हमला कराया था। मसूद अजहर का भतीजा पिछले साल 31 अक्टूबर को एनकाउंटर में मारा गया था। इतना ही नहीं ये भी खुलासा हुआ है कि आतंकियों ने पहले कैंप पर या बारूदी सुरंग बिछाकर सुरक्षाबलों पर हमला करने की प्लानिंग की थी। लेकिन आतंकियों की तीन बार कैंप पर हमले की कोशिश नाकाम रही। इन कोशिशों में जैश के 12 आतंकी मारे गए थे। जैश ने पहले जनवरी में विस्फोट से भरी गाड़ी के जरिए हमले का प्लान बनाया था,लेकिन उस वक्त भारी बर्फबारी की वजह से उनकी कोशिश नाकाम रही। बताया जा रहा है कि जैश 9 फरवरी को करना चाहता था। इस दिन आतंकी अफजल गुरू की बरसी थी, लेकिन उस दिन बर्फबारी से श्रीनगर हाईवे बंद होने की वजह से उसकी ये नापाक कोशिश नाकाम हो गई थी। लेकिन 14 फरवरी को जैश के आतंकी अपने नापाक मंसूबों में कामयाब हो गए। मानव बम आदिल अहमद दार 2,6 और 9 फरवरी को भी हाईवे पर गया था। जैश ये हमला आतंकी अफजल गुरु, मकबूल भट्ट की बरसी पर कराना चाहता था। मसूद अजहर के भतीजे की मौत का बदला लेने के लिए किया गया था हमला। 
जम्मू-कश्मीर में पुलवामा आतंकी हमले को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है।सूत्रों के मुताबिक आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के चीफ मसूद अजहर ने अपने भतीजे उस्मान हैदर की मौत का बदला लेने के लिए ये आतंकी हमला कराया था। मसूद अजहर का भतीजा पिछले साल 31 अक्टूबर को एनकाउंटर में मारा गया था। इतना ही नहीं ये भी खुलासा हुआ है कि आतंकियों ने पहले कैंप पर या बारूदी सुरंग बिछाकर सुरक्षाबलों पर हमला करने की प्लानिंग की थी। लेकिन आतंकियों की तीन बार कैंप पर हमले की कोशिश नाकाम रही। इन कोशिशों में जैश के 12 आतंकी मारे गए थे। जैश ने पहले जनवरी में विस्फोट से भरी गाड़ी के जरिए हमले का प्लान बनाया था,लेकिन उस वक्त भारी बर्फबारी की वजह से उनकी कोशिश नाकाम रही।बताया जा रहा है कि जैश 9 फरवरी को करना चाहता था। इस दिन आतंकी अफजल गुरू की बरसी थी, लेकिन उस दिन बर्फबारी से श्रीनगर हाईवे बंद होने की वजह से उसकी ये नापाक कोशिश नाकाम हो गई थी। लेकिन 14 फरवरी को जैश के आतंकी अपने नापाक मंसूबों में कामयाब हो गए। मानव बम आदिल अहमद दार 2,6 और 9 फरवरी को भी हाईवे पर गया था। जैश ये हमला आतंकी अफजल गुरु,मकबूल भट्ट की बरसी पर कराना चाहता था।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें