Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

गुरुवार, 21 फ़रवरी 2019

नदियों के पानी को पाकिस्तान के बजाय मोड़ा जाएगा यमुना में-गडकरी

बागपत में यमुना वॉटर ट्रीटमेंट प्लान्ट के शिलान्यास पर केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि डीपीआर हो चुका है,तैयार...!!! 
मंत्री ने पब्लिक को बताया प्लान का ब्लूप्रिंट की बागपत में बनेगा वाटर पोर्ट, हरियाणा, पश्चिम यूपी, आगरा, इटावा के कर सकेंगे जलमार्ग यात्रा...!
गडकरी ने समझाया कि पोर्ट से किसानों की खेती के लिए होगा पर्याप्त जल। गन्ने समेत अन्य फसलों के उत्पादन में होगी वृद्धि जिससे किसान होंगे समृद्ध...!!! 
जलपोत मंत्री नितिन गडकरी का दावा: इसी पोर्ट से बांग्लादेश व म्यामांर को जलमार्ग से भेजी जायेगी चीनी...!!! 
नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भी अब पाकिस्तान के ख़िलाफ़ अपने तरीके से पस्त करने में लग चुके है। आज उत्तर प्रदेश के बागपत में यमुना के वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट का शिलान्यास करने पहुंचे गडकरी ने घोषणा किया कि पाकिस्तान जाने वाली तीन नदियों के पानी को यमुना में लाया जाएगा। इसके लिए तीन प्रोजेक्ट तैयार किए जा चुके हैं। पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर हुए आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान को सबक सिखाने भारत से जाने वाला पानी रोकने की मांग लगातार उठ रही है। इस बीच केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भारत के अधिकार वाली तीनों नदियों का पानी पाकिस्तान के बजाय यमुना में लाने की बात कही है। उनकी इस घोषणा ने ये स्पष्ट कर दिया है कि मोदी सरकार प्रत्येक तरकश के तीर का प्रयोग कर पाकिस्तान को सम्पूर्ण रूप से तबाह करने के मोर्चे पर लगी है।
कैसा है प्रोजेक्ट...??? 
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि दिल्ली-आगरा से इटावा तक जलमार्ग की डीपीआर तैयार हो चुका है। इसके प्रोजेक्ट के तहत बागपत में रिवर पोर्ट बनाया जाएगा। किसानों को होने वाली पानी की समस्या दूर होगी और कई किस्म की फसलें किसान तैयार कर सकेंगे। गन्ने की खेती और चीनी मिलों को भी इससे फायदा होगा। गडकरी ने कहा कि हम जलमार्ग पर भी काम कर रहे हैं। पानी की कमी न रहे इसलिए भारत के अधिकार वाली तीनों नदियों का पानी जो पाकिस्तान जाता है, उसे मोड़कर यमुना में लाया जाएगा। इससे हरियाणा और पश्चिम उत्तर प्रदेश के लोग दिल्ली से आगरा जलमार्ग से जा सकेंगे।
यमुना किनारे रिवर पोर्ट बनने से ये होगा फायदा...!!! 
मालूम हो कि बागपत में यमुना किनारे रिवर पोर्ट भी तैयार किया जा रहा है। पोर्ट से चीनी बांग्लादेश और म्यांमार तक भेजी जा सकेगी। इससे खर्च भी कम होगा।
सिंधु जल समझौता बना बाधा...!!! 
पाकिस्तान जाने वाले पानी को रोकने के लिए सिंधु जल समझौता बाधा बन सकता है। क्योंकि भारत के अधिकारी में आने वाली तीन नदियों का पानी सिंधु जल समझौते के तहत रोका नहीं जा सकता।पहले हुए भारत पाक युद्धों के दौरान भी यह समझौता प्रभावी रहा था।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें