शहीद जवानों के परिजनों के लिए बीसीसीआई देगा 1 करोड़

11:22:00 am 0 Comments Views

BCCI ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले T20मैच प्रारम्भ होने से पूर्व टीम रखेगी 5 मिनट का मौन...!!! 
जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को हुए आत्मघाती हमले के बाद पूरा भारतवर्ष गुस्से में हैं। वहीं इस कायरतापूर्ण हमले का असर अब क्रिकेट के मैदान पर भी दिख रहा है। एक तरफ जहां भारतीय क्रिकेटर्स इस हमले को लेकर काफी खफा हैं तो वहीं पाकिस्तान सुपरलीग 2019 के लाइव मैचों के प्रसारण पर भी भारत में रोक लग गई है। इसके अलावा बीसीसीआई ने पुलवामा में हुए शहीद जवानों के परिवार वालों के लिए 1 करोड़ रूपये डोनेट किया है और साथ ही ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले टी-20 मैच से पहले जवान शहीदों के लिए 5 मिनट का मौन रखा जाएगा।
देशप्रेमी नागरिक के तौर पर...
●सवाल पूछो, कि पीएम मोदी, गृहमंत्री राजनाथ, सुरक्षा सलाहकार डाभोल और काश्मीर के राज्यपाल मलिक में से किसी ने सुरक्षा में चूक की जिम्मेदारी क्यों नहीं ली ?
●सवाल पूछो, कि शहीद सैनिकों के सम्मान में राष्ट्रीय शोक क्या सिर्फ इसलिए नहीं रखा गया कि ऐसा करने पर पीएम मोदी और अन्य बीजेपी नेताओं की तयशुदा रैलियां रद्द करनी पड़तीं ?
●सवाल पूछो, कि सर्वदलीय बैठक से नदारत रहकर पीएम मोदी चुनाव सभा क्यों करने गए ?
●सवाल पूछो, कि अब तक आरडीएक्स लेकर काफिले तक आतंकी की पहुँच से जुडी जाँच पूरी क्यों नहीं हुई ? क्यों कोई अफसर नहीं नपा ?
●सवाल पूछो, कि नरेंद्र मोदी ने राजनैतिक निर्णय लेने की बजाय कार्यवाही का निर्णय सेना पर क्यों टाला ?
●सवाल पूछो, कि मोदी के कार्यकाल में सुरक्षाबलों के लोग ज्यादा क्यों शहीद हुए ? क्यों नोटबन्दी का कोई असर आतंकवाद पर नहीं हुआ जिसका वायदा मोदी जी ने किया था ?
●संयम रखो, युद्धोन्माद से बचो, साम्प्रदायिक सद्भाव बनाये रखकर देश की एकता का संदेश दो। 
●आतंकवाद से निबटने के लिए सैन्य उपायों पर निर्भर होने, उनका दुरूपयोग करने और काश्मीर में नागरिक अधिकारों का हनन करके शासक और शासित के बीच अविश्वास को बढाने के तरीके पर सवाल कीजिये। 
●शहीद हुए सैनिकों के परिजनों के आंसू पोंछने के लिए तन मन धन से तत्पर रहिये, उनके लिए हर संभव सहायता का विश्वास दीजिये, युद्ध युद्ध की रट लगाकर और ज्यादा शहादतों की पृष्ठभूमि तैयार न कीजिये  युद्ध बहुत बड़ा निर्णय है, उसपर सरकार को सोचने दीजिये कि देश की माली हालत क्या है और युद्ध कहाँ तक जा सकता है, याद रखिए मोदी सरकार रिजर्ब बैंक के सुरक्षित फण्ड से धन लेने के लिए उर्जित पटेल को हटा चुकी है। 
●जागरूक नागरिक बनिए, उन्मादी भक्त नहीं। शहादत का चुनावी इस्तेमाल करने की हर कोशिश को धिक्कारिये, हतोत्साहित कीजिये और खुद की देशभक्ति को किसी के चुनावी फायदे के लिए प्रयोग न होने दीजिए। सरकार का मूल्यांकन उसके 5 साल से न होकर वर्तमान उन्माद से हो, ऐसा कौन चाहेगा, ये ध्यान रखिए।

rameshrajdar

एक खोजी पत्रकार की सत्य खबरें जिन्हे पूरा पढ़े बिना आप रह ही नहीं सकते हैं ,इस खबर को पढ़ने के लिए............| Google || Facebook

0 टिप्पणियाँ: