Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

सोमवार, 24 सितंबर 2018

अखिलेश सरकार में हुआ 97 हजार करोड़ रुपए का घोटाला

कैग रिपोर्ट में खुलासा...
क्या ऐसे नकारा निक्कमे भ्रष्ट बेईमान नेताओं के हाथ में देश सौंपकर अपने बच्चों के भविष्य से राक्षसी खिलवाड़ हमें करना चाहिये...???
5000 करोड़ के नेशनल हेराल्ड घोटाले में आरोपित और जमानत पर बाहर एवं 250 करोड़ की इनकम टैक्स चोरी की नोटिस से बचने के लिए अदालतों के चक्कर काट रहे राहुल गांधी,उत्तर प्रदेश में जिस अखिलेश यादव के साथ गठबंधन करके देश में सरकार बनाने की कोशिशों में जुटे हुए हैं,उस अखिलेश यादव के शासनकाल में उत्तर प्रदेश के सरकारी खजाने से जनता के हिस्से के 97 हज़ार करोड़ रूपयों की सनसनीखेज सरकारी लूट कितनी बेशर्मी और बेरहमी से हुई, इसका शर्मनाक खुलासा 22 सितम्बर,2018 को CAG की रिपोर्ट में उजागर हुआ है...!!!
अखिलेश यादव राष्ट्रीय अध्यक्ष समाजवादी पार्टी 
नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक (CAG) की रिपोर्ट में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के सत्ता में रहते सरकारी धन के इस्तेमाल में भारी घपले की बात सामने आई है। रिपोर्ट में के मुताबिक, अखिलेश सरकार में 97 हजार करोड़ रुपए का बंदरबांट किया गया। रिपोर्ट में कहा गया है कि सरकारी योजनाओं के लिए दी गई मोटी रकम का कोई हिसाब पूर्ववर्ती सरकार के पास नहीं था। सपा सरकार ने इतनी बड़ी रकम किन मदों में खर्च किया, इस संबंध में कोई भी दस्तावेज नहीं दिखा पाई। सबसे ज्यादा घपला समाज कल्याण, शिक्षा और पंचायतीराज विभाग में हुआ है। सिर्फ इन तीन विभागों में 25 से 26 हजार करोड़ रुपए कहां खर्च हुए, विभागीय अफसरों ने इसकी रिपोर्ट ही नहीं दी।
योगी सरकार के प्रवक्ता एवं स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह
अगस्त, 2018 की इस रिपोर्ट में कहा गया है कि पूर्ववर्ती सरकार इस राशि का ‘यूटिलाइजेशन सर्टिफिकेट’ जमा नहीं कर पाई है। इस कारण इतनी बड़ी राशि के गलत इस्तेमाल का शक पैदा हुआ है। मौजूदा यूपी सरकार अब इस मामले की जांच कराने की बात कर रही है। CAG रिपोर्ट आने के बाद योगी सरकार के प्रवक्ता एवं स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा है कि जिस तरह यूपीए-1 और यूपीए-2 में कैग की रिपोर्ट से भ्रष्टाचार उजागर हुआ था, उसी तरह अखिलेश सरकार में हुआ। उन्होंने कहा, भ्रष्टाचार करना और उसकी नींव डालना इस प्रदेश में मायावती से शुरू हुआ था, अखिलेश यादव ने उस वृक्ष को पाला है। रिपोर्ट के आधार पर सरकार जांच कराएगी। उधर, सपा ने इस मुद्दे को राजनीति से प्रेरित बताया है। सपा के प्रवक्ता सुनील यादव ने कहा कि कैग की रिपोर्ट से भ्रष्टाचार की बात साबित नहीं हो जाती। यह सिर्फ एक अनुमान है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें