Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

मंगलवार, 24 अप्रैल 2018

जल निगम में किये गए घपले और घोटालों पर दर्ज हुई प्राथमिकी में सभी आरोपियों की 24 घंटे में हो गिरफ्तारी-मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ

जल निगम में हुए करोड़ों रुपए के भ्रष्टाचार में सहयोगी रहे अन्य लोंगो पर कब होगी कार्यवाही...???
   भ्रष्टाचार के मुद्दे पर भन्नाए उ. प्र. के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ...
कल तक दुधारू गाय बने जल निगम के अधिशासी अभियंता राजेश खरे आज सबके निशाने पर हैं l क्या जल निगम में तत्कालीन अधिशासी अभियंता राजेश खरे के कार्यकाल में ब्याप्त भ्रष्टाचार जिसमें सभी स्तर के लोग शामिल हैं l ऐसे में सिर्फ तत्कालीन अवर अभियंता, सहायक अभियंता और अधिशासी अभियंता सहित कार्य करने वाला ठेकेदार पर ही कार्यवाई की जानी चाहिए अथवा भ्रष्टता की पराकाष्टा पर कीर्तिमान स्थापित करने वाले सभी लोंगो के विरुद्ध शासन स्तर पर विभागीय मंत्री व विभागाध्यक्ष और जिले के MLA / MP एवं मिनिस्टर पर भी ऐक्शन होना चाहिए कि सिर्फ कार्यदाई संस्था से जुड़े पूर्व के अधिकारीगणों पर ही कार्यवाई होनी चाहिए...??? चूँकि जल निगम में हुए बीसों वर्षों के घोटाले में प्रत्यक्ष अथवा परोक्ष रूप से सम्मलित सभी भ्रष्टाचारियों के नकाब को उतारना होगा l चूँकि विना जनप्रतिनिधि और विभागाध्यक्ष के शामिल हुए किसी अधिकारी में हिम्मत ही नहीं कि इतने बड़े-बड़े घोटाले कर ले ! जल निगम के अधिशासी अभियंता रहे राजेश खरे की क्या मजाल की विना शासन के सहयोग से लगभग 18 वर्ष तक एक जिले में बना रहे l जब तक राजेश खरे जल निगम में घपले और घोटाले किये विधायक/सांसद/मंत्री और शासन में बैठे विभागाध्यक्ष और विभागीय मंत्री को हिस्सा पहुंचाए तब तक राजेश खरे बहुत अच्छा इंजीनियर रहा और रिटायर होते ही वह बुरा हो गया l ये तो वही बात हुई कि जब जक राजेश खरे भ्रष्टाचार रूपी गाय की तरह दूध दे रहे थे तब तक सबकुछ दुरुस्त था और जैसे दूध देना बंद हुआ नहीं कि लटका दिया फांसी पर l भाई फांसी पर लटकाना हो तो सबको लटकाओ lचूँकि भ्रष्टाचर रुपी चासनी को तो सभी चाटे हैं,फिर कुछ पर ही कार्यवाही क्यों...???

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें