Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

रविवार, 25 मार्च 2018

वेशर्म कांग्रेस

सतीश मिश्र -
ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री मैल्कम टर्नबुल भारत के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह...
दक्षिण अफ्रीका के केपटाउन में ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के मध्य खेले जा रहे क्रिकेट टेस्ट मैच में गेंद के साथ छेड़छाड़ करते हुए पकड़े गए ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी कैमरून बैनक्रॉफ्ट के साथ ही साथ गेंद से छेड़छाड़ की साज़िश में कप्तान स्टीव स्मिथ और उपकप्तान डेविड वार्नर की भी सहमति और भागीदारी उजागर होते ही उन तीनों के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट काऊन्सिल (ICC) या ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट बोर्ड कोई फैसला करता उससे काफी पहले, घटनाक्रम उजागर होने के कुछ घण्टों के भीतर ही ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री मैल्कम टर्नबुल ने कठोर फैसला कर दिया और ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट बोर्ड से स्टीव स्मिथ और डेविड वार्नर को केपटाउन में चल रहे टेस्ट मैच के बीच में ही उनके पदों से हटाने का आदेश दे डाला। मैल्कम टर्नबुल ने तीनों ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटरों की करतूत पर ट्विटर पर ट्वीट कर खेद भी प्रकट किया। मैल्कम टर्नबुल का कहना है कि क्रिकेट के खेल के साथ ही साथ तीनों खिलाड़ियों ने ऑस्ट्रेलिया की प्रतिष्ठा को भी आघात पहुंचाया है।
यह पूरा घटनाक्रम देख सुनकर मुझे मनमोहन सिंह की याद आ गयी कि सन 2000 में देश के मान सम्मान स्वाभिमान का सौदा सट्टेबाजों के हाथ करने के कुकर्म में बाकायदा CBI द्वारा गिरफ्तार किए गए अजहरुद्दीन को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड BCCI व अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ICC द्वारा आजीवन प्रतिबंधित कर दिया गया था। अजहरुद्दीन को कोर्ट से भी कोई राहत नहीं मिली थी। लेकिन 2009 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने अज़हरुद्दीन को यूपी के मुरादाबाद से कांग्रेस का टिकट दे अपना प्रत्याशी बनाकर सम्मानित किया था और संसद का सम्मानित सदस्य बनवा दिया था। जब यह सब कांग्रेसी तमाशा हो रहा था उस समय देश का प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ही था। ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री मैल्कम टर्नबुल के आज के फैसले को देख सुनकर मनमोहन सिंह को पता नहीं शर्म आयी कि नहीं...? यहां यह उल्लेख कर दूं कि सौरव गांगुली और हरभजन सिंह ने खुलकर कहा है कि गेंद के साथ छेड़छाड़ के अपराध से सैकड़ों गुना अधिक संगीन और गम्भीर अपराध सट्टेबाजों के साथ मैच फिक्सिंग करना है। जरा न्यूजचैनलों की नंगई निर्लज्जता भी देखिए कि स्टीव स्मिथ समेत तीनों ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों को क्या सज़ा दी जानी चाहिए इसका फैसला/प्रपंच करने के लिए न्यूजचैनल आजतक अजहरुद्दीन को अपना जज/मेहमान बनाकर उससे यह फैसला करवा रहा था, पूछ रहा था कि तीनों आस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों को क्या सज़ा दी जानी चाहिए...?

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें