Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

गुरुवार, 8 फ़रवरी 2018

योगी सरकार में अब विभागाध्य्क्ष भी सुरक्षित नहीं...

सरकार का दावा कि ठेकेदारी में माफियाओं की दादागीरी खत्म की जायेगी,जबकि प्रतापगढ़ में सत्ता पक्ष के नेताओं के बल पर माफिया ही कर रहे हैं,ठेकेदारी...!!!
@@@...नगरपालिका में पहले बिना वर्क ऑर्डर उल्टे सीधे कार्य करना और बाद में उसके भुगतान को लेकर दबाव बनाना नगरपालिका का रही है,परिपाटी...!!!
ई ओ अवधेश यादव को रात में जानलेवा धमकी कहीं ठेकेदारों की साजिश तो नहीं...!!!
प्रतापगढ़। बेल्हा में अब तो जीना दुश्वार हो गया है। अपाराधियों के हौंसले इतने बढ़ गए कि वो अब मोबाईल फोन से जिला स्तरीय अधिकारियों को जान से मारने तक की धमकी देने से भी नहीं डर रहे। समाजवादी पार्टी की सरकार में बात करें तो यही भाजपाई खूब चुटकी लेते थे कि सपा में सरकार गुंडे चला रहे हैं। अब अपनी ही सरकार में खुद भाजपाई पिट रहे हैंं। अब उनकी बोलती बंद है। जब सरकार में एक विभाग का मुखिया ही सुरक्षित नहीं तो वो अपने अधीनस्थ अधिकारियों और कर्मचारियों को क्या महफूज रख पायेगा ? बीती रात विक्रम सिंह नाम का युवक नगरपालिका के अधिशासी अधिकारी को फोन कर धमकी दे डाली। जरा आप भी उसकी धमकी को समझें।  
इस मोबाईल नंबर से दी गई जानलेवा धमकी...
बहुत उड़ रहो हो ठीक कर दूंगा। ज्यादा उड़ोगे तो जान से मारे जाओगे...!विक्रम सिंह नाम बताकर धमकी देने वाला बदमाश फोन पर ही नगरपालिका के ई ओ को खूब धमकाया। ई ओ बार-बार पूछते रहे कि भाई बात क्या है,जो इस तरह बात कर रहे हो ? उसने सिर्फ धमकाने के अलावा ई ओ की बात की अनसुनी करता रहा और अंत में आवास पर आकर देख लेने की भी विक्रम सिंह नामक बदमाश ने धमकी दी है। अधिशासी अधिकारी ने रात में ही उक्त घटना की जानकारी SDM सदर पंकज वर्मा को दी। SDM सदर पंकज वर्मा की पहल पर पुलिस ईओ आवास पर पहुंच कर जाँच में जुट गई है। धमकी जिस मोबाईल फोन नम्बर आई उसका डिटेल पुलिस खंगालने में जुट गई। जिस वक्त ई ओ को धमकी दी गई, उस वक्त उस मोबाईल का लोकेशन क्या था ? पुलिस सारा ध्यान उस पर केंद्रित कर जांच को आगे ले जायेगी। फिलहाल ई ओ अवधेश यादव ने पुलिस को लिखित तहरीर दे दी है। अब देखना है कि पुलिस कार्यवाही करती है अथवा मामले में लीपापोती कर खत्म कर किसी नई धमकी का इन्तजार करती है। फौरी तौर पर नगरपालिका के ई ओ अवधेश यादव का मानना है कि ये धमकी ठेकेदारों के रैकेट द्वारा एक योजना के तहत उन्हें दी गई है। ई ओ के पद पर रहते हुए वो नियम विरुद्ध कार्य नहीं कर सकते। ऐसी एक धमकी नहीं बल्कि एक हजार धमकी भी उन्हें पथ भ्रष्ट नहीं कर सकती...!!!

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें