Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

सोमवार, 12 फ़रवरी 2018

नेहरू की बहादुरी का एक और शर्मनाक उदाहरण


अंग्रेज सिपाहियों की लाठी देख रैली छोड़कर छुप गए थे,नेहरू...
सतीश मिश्र की कलम से...
 मध्य भारत का प्रतिष्ठित अखबार नई दुनिया 
कांग्रेसी नेता आनंद शर्मा का झूठ जिसमें उन्होंने देशवाशियों को बताया था कि आज़ादी की लड़ाई में नेहरू का योगदान क्या था ? उनकी जेल यात्राओं की अवधि शायद ही किसी कांग्रेसी नेता व प्रवक्ता को हो ! तभी तो नेहरू की जेल यात्राओं को कभी 14 वर्ष तो कभी 18 वर्ष बताकर कांग्रेसी नेता व प्रवक्ता देश से किस तरह झूठ बोलते हैं ? संयोग देखिए कि मध्य भारत के प्रतिष्ठित अखबार नई दुनिया ने भी दिनांक 10 फरवरी,2018 के अपने अंक में एक ऐसा सच देश के सामने उजागर किया है,जिससे स्पष्ट होता है कि जवाहर लाल नेहरू ने देश की आज़ादी की लड़ाई कितनी बहादुरी से लड़ी...???आज यह सच उजागर करने का लाभ यह है कि 70 वर्षों तक "नेहरू महान" नाम के झूठ की जो धूल इस देश की आंखों में झोंकी गयी। वह धूल साफ हो। ताकि इतिहास का सच सामने हो। जो इतिहास नहीं जानते व पढ़ते वो भविष्य के कूड़ेदान में स्थान पाते हैं। इतिहास हमें भविष्य के लिए सबक और सीख देता है। इसलिए इतिहास की चर्चा और प्रचार सदैव प्रासंगिक रहा है और रहेगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें