खतरनाक सेक्युलरिज़्म का शर्मनाक उदाहरण

6:35:00 pm 0 Comments Views

वोट बैंक का नशा सत्ता मिलने के बाद भी नहीं उतरता...!!!

दीपावली की शुभकामनाओं के सन्देश में गणेश-लक्ष्मी के बजाय मुस्लिम धर्म संस्कृति के प्रतीकों हुसैनाबाद टॉवर, इमामबाड़े के रूमी दरवाजे वाले मुस्लिम मोहल्ले के चित्र के साथ दीपावली की मुबारकबाद देकर उत्तर प्रदेश का पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव क्या और कैसा सन्देश किसको देना चाहता था,यह तो वही जाने...?लेकिन अखिलेश यादव को दीपावली पर भी किसी हिन्दू देवी-देवता या हिन्दू धर्म संस्कृति के किसी प्रतीक की याद नहीं आयी और दीपावली पर भी मुस्लिम धर्म संस्कृति का ढोल पीटने का भूत अखिलेश यादव के सिर पर क्यों सवार रहा...? इस सवाल का जो भी जवाब है,वो खतरनाक सेक्युलरिज़्म का शर्मनाक उदाहरण है...!!!




अखिलेश यादव पूर्व मुख्यमंत्री उ.प्र. 

rameshrajdar

एक खोजी पत्रकार की सत्य खबरें जिन्हे पूरा पढ़े बिना आप रह ही नहीं सकते हैं ,इस खबर को पढ़ने के लिए............| Google || Facebook

0 टिप्पणियाँ: