Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

शुक्रवार, 20 अक्तूबर 2017

खतरनाक सेक्युलरिज़्म का शर्मनाक उदाहरण

वोट बैंक का नशा सत्ता मिलने के बाद भी नहीं उतरता...!!!

दीपावली की शुभकामनाओं के सन्देश में गणेश-लक्ष्मी के बजाय मुस्लिम धर्म संस्कृति के प्रतीकों हुसैनाबाद टॉवर, इमामबाड़े के रूमी दरवाजे वाले मुस्लिम मोहल्ले के चित्र के साथ दीपावली की मुबारकबाद देकर उत्तर प्रदेश का पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव क्या और कैसा सन्देश किसको देना चाहता था,यह तो वही जाने...?लेकिन अखिलेश यादव को दीपावली पर भी किसी हिन्दू देवी-देवता या हिन्दू धर्म संस्कृति के किसी प्रतीक की याद नहीं आयी और दीपावली पर भी मुस्लिम धर्म संस्कृति का ढोल पीटने का भूत अखिलेश यादव के सिर पर क्यों सवार रहा...? इस सवाल का जो भी जवाब है,वो खतरनाक सेक्युलरिज़्म का शर्मनाक उदाहरण है...!!!




अखिलेश यादव पूर्व मुख्यमंत्री उ.प्र. 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें