Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

गुरुवार, 12 अक्तूबर 2017

जीवन में स्वीकार करने वाला यथार्थ सत्य

ये कटु सत्य है कि प्रत्येक व्यक्ति में 100% बुराई नहीं हो सकती। हां,ऐसा हो सकता है कि किसी के  जीवन में बुराइयाँ कुछ अधिक हों,परंतु शत प्रतिशत बुराइयाँ ही हों ऐसा किसी के जीवन में संभव नहीं है। कोई न कोई अच्छाइयाँ प्रत्येक व्यक्ति में होती हैं,चाहे 1% ही हो। जब किसी बुरे व्यक्ति में कोई अच्छाई दिखाई दे तो उसे अपनाने में कोई बुराई नहीं है,क्योंकि वह अच्छाई उसकी नहीं है,वह तो ईश्वर की दी हुई है। हाँ,उसके जीवन में जो बुराइयाँ हैं,उनका जिम्मेदार वह व्यक्ति स्वयं है तो उसकी बुराइयाँ ना अपनाएं,परंतु ईश्वर की दी हुई अच्छाई आप धारण कर सकते हैं...!!!  

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें