Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

शनिवार, 16 जुलाई 2016

दशहतगर्द के पनाहगार पर चलाना होगा हथौड़ा...

कौन जिम्मेदार है...???
 देश के दशहतगर्द ...!!!
जम्मू कश्मीर की जिस सरकार में भाजपा बराबर की भागीदार है उस सरकार ने घाटी में सेना और पुलिस के जवानों पर पत्थर बरसाने के अपराधी, जेल में बंद लगभग सवा छह सौ पेशेवर पत्थरबाजों को ईद की ईदी में रिहाई का तोहफा दिया और ईद के तत्काल बाद सेना व पुलिस के जवानों पर कश्मीर में पत्थरों की इतनी प्रचण्ड बरसात हुई कि एक जवान शहीद हो गया और सौ से अधिक जवान अस्पताल में भर्ती हैं. जिनमे एक दर्जन की हालत गम्भीर है. पत्थरबाज हत्यारे घाटी में हज़ारों अमरनाथ यात्रियों के खून से होली कहने को भी बेताब बेकाबू होकर उनपर भी पत्थरों की बरसात कर उन्हें लहूलुहान कर रहे है. पत्थरबाज हत्यारे आतंकियों के सरगना/संरक्षक/मार्गदर्शक यासीन मालिक, मीर वाइज़, शब्बीर और गिलानी बेख़ौफ़ हैं. इन हालातों में पिछले दिनों देश के प्रधानमंत्री को अफ्रीका में मस्त होकर नगाड़ा बजाते हुए देखा फिर सेना की गोली से मरे दंगाई पत्थरबाजों के लिए गम मनाते भी देखा. 
यात्रा में पत्थरबाज गुंडों के शिकंजे में फंसे हज़ारों शिवभक्त बच्चों बूढ़ों महिलाओं के लिए एक शब्द तक बोलते नहीं देखा.इसके अलावा...."आश्वस्त करना चाहता हूँ कि सरकार आतंकवाद से कोई समझौता नहीं करेगी." वाला गृहमंत्री का 2 साल पुराना घिसापिटा रिकॉर्ड पिछले 5-7 दिन से लगातार बार बार सम्भवतः डेढ़ सौंवी बार पुनः सुन रहा हूँ. कश्मीर के पत्थरबाज देशद्रोही गुंडों से कैसे निपटा जाए इसका उपाय/सलाह सोनिया गांधी और देश भर के मुल्लों इमामों से लेते हुए भी देश के गृहमंत्री को देखा. अब कश्मीर में यह सब जो हो रहा है...कौन जिम्मेदार है, इसका...? यह अनुमान आप मत लगाइए.ऐसा कोई आंकलन भी मत करिये. इसके बजाय सोशल मीडिया में "खून खौलाऊ" पोस्टें लिखिए, भाजपा को छोड़ बाकी सभी दलों को इसके लिए जिम्मेदार बताकर उन्हें खूब गाली बकिए, ताकि हिन्दूओं का खून खूब गर्म रहे. भाजपा की झोली वोटों से भरी रहे.अगर हमने आपने ऐसा नहीं किया तो उन सवा छह सौ पत्थरबाज हत्यारों को बिना सजा बिना शर्त रिहा करने का शातिर खेल व्यर्थ हो जाएगा.

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें