Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

बुधवार, 6 जुलाई 2016

देश में एक साथ होंगे लोकसभा-विधानसभा चुनाव, आयोग तैयार..!!!

देश में एक साथ होंगे लोकसभा-विधानसभा चुनाव, आयोग तैयार..!!!

“भारत के मुख्य चुनाव आय़ोग के मुखिया नसीम जैदी ने कहा है कि यदि देशभर की सभी राजनीतिक पार्टियों में सहमति बने और इसके लिए संवैधानिक संशोधन किया जाता है, तो चुनाव आयोग लोकसभा चुनाव और राज्य विधानसभा के चुनावों को एक साथ करवाने के लिए तैयार है।”

चुनाव आय़ोग के मुखिया नसीम जैदी

चुनाव आय़ोग के मुखिया नसीम जैदी ने समाचार एजेंसी पीटीआई से कहा, एक चुनाव आयोग के रूप में कानून मंत्रालय को हमारी सिफारिश है कि देशभर की विधानसभा और लोकसभा के चुनाव एक साथ आयोजित कराए जाएं। ऑस्ट्रेलियाई चुनाव आयोग के निमंत्रण पर इंटरनेशन इलेक्शन विजिटर्स प्रोग्राम में शिरकत करने आए नसीम जैदी ने कहा, इन चुनावों को एक साथ करवाने के लिए हमें और अधिक इलेक्ट्रॉनिक मशीनें खरीदने,  अस्थाई कर्मचारियों को नियुक्त करने और चुनाव तिथियों में बदलाव जैसे कुछ प्रबंध करने होंगे। 
नसीम जैदी ने कहा, हमने इसकी एक सिफारिश संसदीय समिति से भी की थी और समिति ने भी यह सुझाव दिया था कि इस मुद्दे पर सभी राजनीतिक दलों के बीच पर्याप्त बहस होनी चाहिए क्योंकि कुछ राज्यों (की तिथियों) को आगे लाने और कुछ को पीछे खिसकाने के लिए संविधान संशोधन करना होगा। सीईसी नसीम जैदी ने कहा, यदि विभिन्न राजनीतिक दलों में सहमति बनती है और संविधान में संशोधन हो जाते हैं तो हम अपने इस प्रस्ताव पर कायम हैं कि चुनाव एक साथ करवाए जा सकते हैं।
इस कार्यक्रम का आयोजन यहां आने वाले 19 देशों के चुनाव आयुक्तों का परिचय ऑस्ट्रेलियाई चुनाव प्रणाली से करवाने के लिए किया गया। जब नसीम जैदी से पूछा गया कि ऑस्ट्रेलियाई चुनाव प्रणाली या प्रक्रियाओं से भारत क्या सीख सकता है तो उन्होंने कहा कि आयोग डाक से मतदान की सुविधा को विस्तार देने की संभावना पर विचार कर रहा है। उन्होंने कहा, इस समय हमारे पास डाक के जरिए मतदान करने वालों की संख्या कम है लेकिन हमें यह जांच करनी होगी कि क्या हम इसे अन्य मतदाताओं के लिए विस्तार दे सकते हैं? 
नसीम जैदी ने यह भी कहा कि आयोग ने देश से बाहर रहने वाले एनआरआई मतदाताओं को उनके मूल देश में चुनावों का हिस्सा बनने के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए प्रोत्साहित किया है। उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग भारतीय दूतावासों के साथ मिलकर विदेश में रहने वाले भारतीय नागरिकों को ऑनलाइन पंजीकरण के लिए सक्रिय रूप से जोड़ रहा है क्योंकि अब तक मतदान के लिए पंजीकृत एनआरआई लोगों की संख्या 30 हजार से कम रही है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें