Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

गुरुवार, 16 जून 2016

केजरी पार्टी में घमासान, लांबा ने खोली राय के इस्तीफे की पोल, पद से सस्पेंड..!!!

केजरी पार्टी में घमासान, लांबा ने खोली राय के इस्तीफे की पोल, पद से सस्पेंड..!!!

अलका लांबा ने बताया था कि प्रीमियम बस सर्विस स्‍कीम की निष्‍पक्ष जांच के लिए ट्रांसपोर्ट मंत्री गोपाल राय को हटा दिया गया है. जबकि आम आदमी पार्टी प्रचारित कर रही है कि राय स्वास्थ्य कारणों की वजह से इस्तीफा दे रहे हैं....!!!

आल्का लाम्बा 

नई द‌िल्ली. आम आदमी पार्टी ने दिल्ली के चांदनी चौक से अपनी विधायक अलका लांबा को दो महीने के लिए पार्टी प्रवक्‍ता पद से हटा दिया है.सूत्र बताते हैं कि अलका पर यह कार्रवाई पिछले दिनों गोपाल राय के परिवहन मंत्रालय छोड़ने के बाद उनके बयान को लेकर की गई है.अलका ने पहले जहां मामले में ट्वीट कर पश्चाताप की बात की थी, वहीं अब उनका कहना है कि उन्हें ऐसा कोई आदेश नहीं मिला है.
उल्लेखनीय है कि अलका लांबा ने ट्वीट में कहा था कि वो पार्टी की एक अनुशासित कार्यकर्ता हैं और पार्टी के हर ‌फैसले से सहमत हैं. अगर उनसे कोई गलती हुई हो तो वो उसके पश्चाताप के लिए भी तैयार हैं.मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अलका लांबा ने बताया था कि प्रीमियम बस सर्विस स्‍कीम की निष्‍पक्ष जांच के लिए ट्रांसपोर्ट मंत्री गोपाल राय को मंत्रालय से हटा दिया गया है. जबकि आम आदमी पार्टी प्रचारित कर रही है कि गोपाल राय स्वास्थ्य कारणों की वजह से इस्तीफा दे रहे हैं.
अलका लांबा ने कहा था, ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट सत्येंद्र जैन को दिया गया है ताकि जांच निष्पक्ष हो सके. जब तक जांच नहीं हो तब तक ट्रांसपोर्ट मिनिस्ट्री गोपाल राय से ली गई ताकि कोई आरोप न लगे.अलका ने यह भी कहा, ‘सरकार ने एक उदहारण दिया है. दिखाया है कि निष्पक्ष जांच हो रही है. विपक्ष एक मुद्दा बना सकता था, इसलिए अब गोपाल राय जी ट्रांसपोर्ट मंत्री नहीं हैं. जांच में दूध का दूध, पानी का पानी हो जाएगा. हालांकि मीडिया से हमें पता चला है कि उन्होंने अपनी हेल्थ की वजह से खुद मिनिस्ट्री छोड़ने की रिक्वेस्ट की थी.’
अलका लांबा ने यह जानकारी एंटी करप्शन ब्रांच के कार्यालय के बाहर दी थी, वहां वो गोपाल राय को समर्थन देने पहुंची थी. उनके इस बयान के बाद सियासी गलियारों में खूब शोर मचा था और पार्टी और सरकार को भी कोई तर्क नहीं सूझ रहा था.गोपाल राय को समर्थन देने पहुंची अलका ने पत्रकारों के पूछने पर कहा था कि मुख्‍यमंत्री कथित घोटाले की निष्‍पक्ष जांच चाहते थे और उन्‍होंने राय से पद से हटने को कहा था.
पिछले महीने गोपाल राय द्वारा प्रीमियम बस सर्विस शुरू करने की घोषणा के बाद, भाजपा विधायक विजेंदर गुप्‍ता की शिकायत पर ACB की जांच के दायरे में हैं.शुक्रवार को केजरीवाल ने राय से सभी जरूरी कागजात के साथ ACB के सामने पेश होने को कहा था. जब यह पूछा गया कि राय ने अन्‍य मंत्रालयों का जिम्‍मा क्‍यों नहीं छोड़ा, तो पार्टी ने यह कहते हुए उनका बचाव किया कि परिवहन विभाग में काम ज्‍यादा है.पार्टी के अनुसार राय को अपनी सर्जरी के बाद फिट होने में कम से कम तीन महीने लगेंगे. परिवहन मंत्रालय का जिम्‍मा सत्‍येंन्‍द्र जैन को सौंपा गया है, जो पहले से पांच अन्‍य मंत्रालय देख रहे हैं...!!!

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें