Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

सोमवार, 2 मई 2016

एंटनी ने मानी हेलीकॉप्टर सौदे में गड़बड़ी की बात

एंटनी ने मानी हेलीकॉप्टर सौदे में गड़बड़ी की बात....!!!

पूर्व रक्षा मंत्री ए के एंटनी

नई दिल्ली । घोटालों में घिरी संप्रग सरकार के ईमानदार छवि वाले मंत्री एके एंटनी ने मंगलवार को माना कि वीवीआइपी हेलीकॉप्टर सौदे में गड़बड़ी के संकेत मिले हैं। रक्षा मंत्री ने कहा कि इस सौदे में तमाम सुरक्षा प्रावधानों के बावजूद एक बात स्पष्ट है कि कहीं न कहीं कुछ तो जरूर हुआ है। एंटनी ने सवालों के घेरे में आई अगस्ता-वेस्टलैंड कंपनी के खिलाफ रक्षा मंत्रालय की कार्रवाई को जायज ठहराया।
करीब 3600 करोड़ रुपये के इस सौदे पर उठे सियासी बवंडर के बीच रक्षा मंत्री ने अपने इस्तीफे की अटकलों को खारिज कर दिया, लेकिन यह माना कि सौदे में एहतियात के तमाम उपायों के बावजूद सामने आए आरोपों ने उन्हें दुखी जरूर किया है। ब्रह्मोस एयरोस्पेस के कार्यक्रम में मीडिया से रू-ब-रू एंटनी ने कहा कि रक्षा खरीद में रिश्वतखोरी पर छह विदेशी कंपनियों को काली सूची में डालने के बावजूद ऐसा मामला सामने आया है। सरकार में 'मिस्टर क्लीन' के नाम से चर्चित एंटनी को इस सख्ती के कारण सैन्य आधुनिकीकरण की प्रक्रिया सुस्त करने के आरोप भी झेलने पड़ रहे हैं।
सौदे में रिश्वतखोरी को लेकर पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी पर लग रहे आरोपों पर एंटनी ने कुछ भी कहने से इन्कार किया। रक्षा मंत्री ने 12 वीवीआइपी हेलीकॉप्टरों की खरीद के इस सौदे में सरकार की ओर से अपनाई गई प्रक्रिया का बचाव भी किया। एंटनी का कहना था कि सौदे में रक्षा मंत्रालय, एसपीजी, वायुसेना सहित सभी की ओर से पूरी प्रक्रिया का पालन किया गया। उन्होंने इस मामले में सुस्ती बरतने के आरोपों का भी खंडन करते हुए कहा, 'इस मामले को लेकर हमारे हाथ साफ हैं। हम संसद में विपक्षी दलों का सामना करने को तैयार हैं। रक्षा मंत्रालय हेलीकॉप्टर सौदे में गड़बड़ी की पहली शिकायत मिलने के बाद से लगातार कदम उठा रहा है।'

रक्षा मंत्रालय इस सौदे में सीबीआइ जांच के आदेश के साथ ही कंपनी को सौदा रद करने के लिए कारण बताओ नोटिस जारी कर उसके सारे भुगतान रोक चुका है। साथ ही भारत ने जनवरी में आए तीन हेलीकॉप्टरों के बाद पड़ताल की स्थिति स्पष्ट होने तक अगली खेप भी न लेने का फैसला किया है। इटली में इस सौदे में रिश्वतखोरी को लेकर हुई जांच के बाद फिनमैकेनिका कंपनी और उसकी ब्रिटिश इकाई अगस्ता-वेस्टलैंड के सीईओ को गिरफ्तार कर लिया गया है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें