Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

गुरुवार, 26 मई 2016

मोदी भारत का ही नहीं बल्कि पुरे एशिया का राजा है : ईरानी मीडिया...!!!

मोदी भारत का ही नहीं बल्कि पुरे एशिया का राजा है : ईरानी मीडिया...!!!
मोदी का 2 दिनों की ईरान दौर कल समाप्त हो गयी और प्रधानमंत्री स्वदेश लौट आये, लेकिन मोदी का स्वागत ईरान में पुरे मध्य एशिया के राजा की तरह किया गया! ऐसा हमारा नहीं ईरानी मीडिया का कहना है।अपने ईरान दौरे के दौरान दोनों देशो ने 12 अहम मुद्दों पर करार किया है जिसमे मुख्य रूप से चाबहार बंदरगाह शामिल है।चाबहार बंदरगाह को विकसित करने के लिए भारत की ओर 500 मिलियन डॉलर्स का योगदान देने का फैसला लिया गया है ।
इस बंदरगाह के वजह से समुद्री मार्ग के जरिये भारत और ईरान अपना व्यापार पाकिस्तान की समुद्री सीमा में प्रवेश किये बिना कर पाएगा, जिससे पाकिस्तान को बड़ा झटका लगा है। इस बंदरगाह तक अफगानिस्तान के समुद्री मार्ग के जरिये पंहुचा जा सकता है ।प्रधानमंत्री के निवेश के फैसले का ईरानी मीडिया ने तहे दिल से स्वागत किया है।मोदी के इस दौरे से ईरान और भारत के बिच आपसी सहयोग बढ़ेगा।
ईरान के मेहराबाद अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर ईरान के वित्त और आर्थिक मामलों के मंत्री अली तायेबनिया ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगवानी की।
 वर्ष2009 के बाद से दोनों देशो के रिश्तों में थोड़ी खटास आ गयी थी क्युकी तब केंद्र की कांग्रेस सरकार ने ईरान के परमाणु कार्यकर्म का विरोध किया था और यूनाइटेड नेशन में उसके खिलाफ वोट किया था, जिसके पश्चात सयुक्त राष्ट्र संघ ने ईरान पर प्रतिबन्ध लगा दिया था।लेकिन अब सयुक्त राष्ट्र संघ के प्रतिबन्ध हटने के साथ ही मोदी ने मास्टर स्ट्रोक खेला और ईरान का दौर करते हुए दोनों देशो के रिश्तों को सुधरने की पहल की।




मोदी का ईरान में भव्य स्वागत हुआ वहाँ की सरकार के साथ साथ ईरानी मीडिया ने भी गर्मजोशी से स्वागत किया। मोदी के 500 मिलियन डॉलर्स की मदद का जिक्र करते हुए ईरानी मीडिया ने कहा की भारत अब पाकिस्तान और चीन पर दबाब बनाने में कामयाब हो गया है।मोदी के इस फैसले से भारत को मध्य एशिया में अपनी शक्ति बढ़ने के दिशा में एक और कामयाबी हासिल हुयी है।
बता दें कि चीन ने पाकिस्तान में एक बंदरगाह बनाया है जहाँ से वो ईरान और मध्य एशिया में व्यपार करता है।भारत ने इसी के जबाब में ईरान के चाबहार बंदरगाह में निवेश करके चिन को ऐना दिया है और एशिया में अपनी शक्ति को बढ़ाया है।मोदी के इस दौरे के बाद चिन और पाकिस्तान अलग थलग पड़ गए है और मोदी ने साबित कर दिया की एशिया का किंग भारत के अलावा दूसरा और कोई नहीं है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें