Breaking

Post Top Ad

Your Ad Spot

शुक्रवार, 6 मई 2016

मोदी भी आखिर इन्सान ही है....!!!

 मोदी भी आखिर इन्सान ही है....!!!

@@@.....कहां-कहां लड़े....??? 

#####.....किससे-किससे लड़े....???




                          चिंतन की मुद्रा में पी एम मोदी  

     आज राज्य सभा में कांग्रेसी नेता अहमद पटेल ने खुली चेतावनी और धमकी दी है कि, BJP अपना घर सम्भाले, 140 MP का गुट बड़े परिवर्तन की तैयारी कर रहा है।मैं इसपर बस इतना ही कहूंगा कि, कांग्रेस में अहमद पटेल बहुत कम और नपा तुला बोलनेवाला घाघ नेता है। डा. स्वामी के हमले की तिलमिलाहट में वो यह बोल गया, लेकिन बोल सच ही गया।संख्या ऊपर नीचे हो सकती है।लेकिन गुट तो बन चुका है।इसमें यूपी के सांसदों की सबसे बड़ी संख्या और मुख्य भूमिका है।
वैसे मुझे तो याद नहीं लेकिन आप मित्रों को यदि याद आये तो मुझे कोई एक ऐसा अवसर याद दिलाइये जब विपक्ष विशेषकर कांग्रेस ने मोदी सरकार के गृहमंत्री या वित्तमंत्री की सार्वजानिक आलोचना की हो पिछले दो वर्षों में।अगस्टा हेलीकॉप्टर घूसकाण्ड में जांच दो सरकारी एजेंसियां कर रही हैं।
एक C.B.I. दूसरी E.D. इन्ही दोनों एजेंसियों के निक्कम्मे व नकारेपन के कारण कांग्रेस छाती ठोंक के कह रही है कि, 2 वर्षों तक हमारी जांच क्यों नहीं की....? उसकी बात सही भी है। दो साल की समयावधि बहुत होती है।अब समझिए खेल आज राज्य सभा में कांग्रेसी नेता अहमद पटेल ने खुली चेतावनी और धमकी दी है कि, BJP अपना घर सम्भाले, 140 MP का गुट बड़े परिवर्तन की तैयारी कर रहा है।मैं इसपर बस इतना ही कहूंगा कि, कांग्रेस में अहमद पटेल बहुत कम और नपा तुला बोलनेवाला घाघ नेता है। 

डा. स्वामी के हमले की तिलमिलाहट में वो यह बोल गया लेकिन. बोल सच ही गया।संख्या ऊपर नीचे हो सकती है।लेकिन गुट तो बन चुका है।इसमें यूपी के सांसदों की सबसे बड़ी संख्या और मुख्य भूमिका है।वैसे मुझे तो याद नहीं लेकिन आप मित्रों को यदि याद आये तो मुझे कोई एक ऐसा अवसर याद दिलाइये जब विपक्ष विशेषकर कांग्रेस ने मोदी सरकार के गृहमंत्री या वित्तमंत्री की सार्वजानिक आलोचना की हो पिछले दो वर्षों में।

अगस्टा हेलीकॉप्टर घूसकाण्ड में जांच दो सरकारी एजेंसियां कर रही हैं।एक C.B.I. दूसरी E.D. इन्ही दोनों एजेंसियों के निक्कम्मे व नकारेपन के कारण कांग्रेस छाती ठोंक के कह रही है कि, 2 वर्षों तक हमारी जांच क्यों नहीं की....? उसकी बात सही भी है। दो साल की समयावधि बहुत होती है।अब समझिए खेल...!!!

E.D. वित्तमंत्री के अधीन काम करती है। C.B.I. गृहमंत्री के अधीन काम करती है।आज राज्यसभा में अगस्टा हेलीकॉप्टर घूसकाण्ड पर जो बहस हुई उसपर सारे देश की निगाह लगी थी कि, आज पता चलेगा कि, दोनों जांच एजेंसियां किन दोषियों के कितने करीब पहुंची।लेकिन ऐसी कोई जानकारी देना तो दूर, आज की बहस में दोनों मंत्रियों ने अपनी शकल तक नहीं दिखाई।यहां तक कि, उनके राजयमंत्री तक चर्चा में शामिल नहीं हुए।

इसके बजाय लोकसभा में राजनाथ मुसलामानों का गारंटर बनकर यह गारंटी देने में व्यस्त थे कि, मुसलमान कभी भी ISIS या आतंकवादियों का साथ नहीं देगा। जबकि अपने निर्धारित वक्ताओं के अतिरिक्त कांग्रेस की तरफ से अहमद पटेल, एके एंटोनी और गुलामनबी आज़ाद जबरदस्ती बोले।वो तो भला हो डा.स्वामी का और रक्षामंत्री पर्रिकर जी का जो अपनी तैयारी ठीक से कर के आये थे वर्ना आज राजयसभा से कांग्रेस को 24 कैरेट टंच,क्लीन चिट निश्चित मिल गई होती 

आज राज्य सभा में कांग्रेसी नेता अहमद पटेल ने खुली चेतावनी और धमकी दी है कि, BJP अपना घर सम्भाले, 140 MP का गुट बड़े परिवर्तन की तैयारी कर रहा है।मैं इसपर बस इतना ही कहूंगा कि, कांग्रेस में अहमद पटेल बहुत कम और नपा तुला बोलनेवाला घाघ नेता है। डा. स्वामी के हमले की तिलमिलाहट में वो यह बोल गया लेकिन. बोल सच ही गया।संख्या ऊपर नीचे हो सकती है।लेकिन गुट तो बन चुका है।इसमें यूपी के सांसदों की सबसे बड़ी संख्या और मुख्य भूमिका है।

वैसे मुझे तो याद नहीं लेकिन आप मित्रों को यदि याद आये तो मुझे कोई एक ऐसा अवसर याद दिलाइये जब विपक्ष विशेषकर कांग्रेस ने मोदी सरकार के गृहमंत्री या वित्तमंत्री की सार्वजानिक आलोचना की हो पिछले दो वर्षों में।अगस्टा हेलीकॉप्टर घूसकाण्ड में जांच दो सरकारी एजेंसियां कर रही हैं।एक C.B.I. दूसरी E.D. इन्ही दोनों एजेंसियों के निक्कम्मे व नकारेपन के कारण कांग्रेस छाती ठोंक के कह रही है कि, 2 वर्षों तक हमारी जांच क्यों नहीं की....? उसकी बात सही भी है। दो साल की समयावधि बहुत होती है।अब समझिए खेल...!!!

E.D. वित्तमंत्री के अधीन काम करती है। C.B.I. गृहमंत्री के अधीन काम करती है।आज राज्यसभा में अगस्टा हेलीकॉप्टर घूसकाण्ड पर जो बहस हुई उसपर सारे देश की निगाह लगी थी कि, आज पता चलेगा कि, दोनों जांच एजेंसियां किन दोषियों के कितने करीब पहुंची।लेकिन ऐसी कोई जानकारी देना तो दूर, आज की बहस में दोनों मंत्रियों ने अपनी शकल तक नहीं दिखाई।यहां तक कि, उनके राजयमंत्री तक चर्चा में शामिल नहीं हुए।

इसके बजाय लोकसभा में राजनाथ मुसलामानों का गारंटर बनकर यह गारंटी देने में व्यस्त थे कि, मुसलमान कभी भी ISIS या आतंकवादियों का साथ नहीं देगा। जबकि अपने निर्धारित वक्ताओं के अतिरिक्त कांग्रेस की तरफ से अहमद पटेल, एके एंटोनी और गुलामनबी आज़ाद जबरदस्ती बोले।वो तो भला हो डा.स्वामी का और रक्षामंत्री पर्रिकर जी का जो अपनी तैयारी ठीक से कर के आये थे वर्ना आज राजयसभा से कांग्रेस को 24 कैरेट टंच, क्लीन चिट निश्चित मिल गई होती...!!!

यह शुभ संकेत नहीं है. अहमद पटेल की आज की खुली धमकी/चेतावनी के यथार्थ में घटित होने का प्रारम्भिक चरण है।अंत में बस इतना कि......."इन हरामजादों को हटा क्यों नहीं देता...!!!" कहने से काम नहीं चलेगा। मोदी भी आखिर इन्सान ही है। कहां-कहां लड़े....? किससे-किससे लड़े....? मेरा सुझाव बस इतना है कि, जयचंदों को पहचानिए और उन पर तीखे हमले शुरू करिये,क्योंकि वर्तमान मोदी सरकार बनाने में आपका हमारा योगदान भी है।

अतः इसको जयचंदों के हाथों लुटने से बचाने की जिम्मेदारी भी हमारी आपकी है।यह शुभ संकेत नहीं हैअहमद पटेल की आज की खुली धमकी/चेतावनी के यथार्थ में घटित होने का प्रारम्भिक चरण है।अंत में बस इतना कि......."इन हरामजादों को हटा क्यों नहीं देता...!!!" कहने से काम नहीं चलेगा। मोदी भी आखिर इन्सान ही है। कहां-कहां लड़े....? किससे-किससे लड़े....? 

मेरा सुझाव बस इतना है कि, जयचंदों को पहचानिए और उन पर तीखे हमले शुरू करिये,क्योंकि वर्तमान मोदी सरकार बनाने में आपका हमारा योगदान भी है।अतः इसको जयचंदों के हाथों लुटने से बचाने की जिम्मेदारी भी हमारी आपकी है। E.D. वित्तमंत्री के अधीन काम करती है। C.B.I. गृहमंत्री के अधीन काम करती है।आज राज्यसभा में अगस्टा हेलीकॉप्टर घूसकाण्ड पर जो बहस हुई उसपर सारे देश की निगाह लगी थी कि, आज पता चलेगा कि, दोनों जांच एजेंसियां किन दोषियों के कितने करीब पहुंची।

लेकिन ऐसी कोई जानकारी देना तो दूर, आज की बहस में दोनों मंत्रियों ने अपनी शकल तक नहीं दिखाई।यहां तक कि, उनके राजयमंत्री तक चर्चा में शामिल नहीं हुए।इसके बजाय लोकसभा में राजनाथ मुसलामानों का गारंटर बनकर यह गारंटी देने में व्यस्त थे कि, मुसलमान कभी भी ISIS या आतंकवादियों का साथ नहीं देगा। जबकि अपने निर्धारित वक्ताओं के अतिरिक्त कांग्रेस की तरफ से अहमद पटेल, एके एंटोनी और गुलामनबी आज़ाद जबरदस्ती बोले।

वो तो भला हो डा.स्वामी का और रक्षामंत्री पर्रिकर जी का जो अपनी तैयारी ठीक से कर के आये थे वर्ना आज राजयसभा से कांग्रेस को 24 कैरेट टंच, क्लीन चिट निश्चित मिल गई होती...!!!यह शुभ संकेत नहीं है. अहमद पटेल की आज की खुली धमकी/चेतावनी के यथार्थ में घटित होने का प्रारम्भिक चरण है।अंत में बस इतना कि......."इन हरामजादों को हटा क्यों नहीं देता...!!!"

कहने से काम नहीं चलेगा। मोदी भी आखिर इन्सान ही है। कहां-कहां लड़े....? किससे-किससे लड़े....? मेरा सुझाव बस इतना है कि, जयचंदों को पहचानिए और उन पर तीखे हमले शुरू करिये,क्योंकि वर्तमान मोदी सरकार बनाने में आपका हमारा योगदान भी है।अतः इसको जयचंदों के हाथों लुटने से बचाने की जिम्मेदारी भी हमारी आपकी है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Post Top Ad

Your Ad Spot

अधिक जानें